हड़ताल के सातवें दिन भी डटे रहे 216 NHM कर्मी… कोरोना काल में बिगड़ेंगे हालात, आर-पार के मूड में हैं कर्मचारी

82

अनिश्चितकालीन हड़ताल के सातवें दिन भी डटे रहे 216 NHM कर्मी… कोरोना काल में बिगड़ेंगे हालात, आर-पार के मूड में हैं कर्मचारी

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। एनएचएम कर्मचारियों के अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाने से जिले में स्वास्थ्य सुविधाएं चरमरा गई है। शुक्रवार को सातवें दिन सभी NHM कर्मी हड़ताल पर डटे रहे।

हड़ताली कर्मचारियों का कहना है कि उनकी मांगें जायज है और जब तक सरकार इसे पूरा नहीं करती, आंदोलन जारी रहेगा। सातवें दिन दंतेवाड़ा विकासखंड में NHM कर्मचारियों की वृहद बैठक आयोजित की गई, जिसमें जिले एवं विकासखंडों के समस्त कर्मचारी उपस्थित हुए।

यह भी पढ़ें :  18+ उम्र के लोगों को 1 मई से लगेगा कोरोना का टीका, 28 अप्रैल से शुरू होगा पंजीयन... यहाँ देखें रजिस्ट्रेशन की पूरी प्रक्रिया

यह भी पढ़ें : NHM कर्मियों की हड़ताल: 205 लोगों का भविष्य हो गया है धुंधला… तीन अफसरों ने आंदोलन से बनाई दूरी !

इस मौके पर उपस्थित सभी कर्मचारियों ने अपनी अपनी बातें रखी। वहीं पदाधिकारियों ने कर्मचारियों में जोश भरा। छत्तीसगढ़ संविदा महासंघ के प्रांतीय सदस्य मुकेश अहिरवार ने अपने संबोधन में कर्मचारियों को प्रेमी एवं सरकार को प्रेमिका से परिभाषित किया।

उन्होंने कहा कि सरकारी नौकरी रूपी प्रेमिका को पाने प्रेमी हर संभव प्रयास करता है। अथक प्रयास के बावजूद उसे संविदा की नौकरी मिलती है फिर भी संविदा कर्मी अपने रिश्ते को निभाने का भरपूर प्रयास करता है। अपना शत प्रतिशत देने के बावजूद प्रेमिका कभी खुश नहीं होती।

यह भी पढ़ें :  चिटफंड कंपनी सांई प्रसाद की डायरेक्टर गिरफ्तार, न्यायिक रिमाण्ड पर भेजा गया जेल

Read More: चार डाॅक्टरों समेत 13 की नौकरी गई, NHM कर्मियों की हड़ताल पर प्रशासन की सख्ती… हड़ताली कर्मचारी बोले, कोई नहीं करेगा ज्वाइन

संविदा कर्मचारी अपने नियमितीकरण अर्थात विवाह कि जब भी बात करता है प्रेमिका रूठ जाती है। वह इसके लिए कभी तैयार नहीं होती। प्रेमी अपनी प्रेमिका से विवाह के लिए आवेदन-निवेदन करके थक जाने के उपरांत हड़ताल के लिए विवश हो जाता है।

Read More:

 

यह भी पढ़ें :  स्टार प्रचारकों की रैलियों से भाजपा दिखाएगी ताकत, कांग्रेस भी लगाएगी पूरा जोर... ये बड़े नेता फूंकेगे चुनावी सभाओं में जान

जिला अध्यक्ष भूपेंद्र साहू ने कहा कोरोना कोविड-19 के इस दौर में हड़ताल से हो रही परेशानी की हम NHM कर्मचारी चिंता करते है। किंतु शासन द्वारा कोई भी पहल नही की जा रही है यह खेद जनक है। क्या शासन को राज्य की आम जनता एवं NHM कर्मचारियों की कोई चिंता नही है। उन्होंने कहा कि राज्य में बिगड़ती स्वास्थ्य व्यवस्था के लिए राज्य शासन पूर्णतः जिम्मेदार है।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…