अपहृत CRPF जवान सकुशल, नक्सलियों ने जारी की तस्वीर

54

अपहृत CRPF जवान सकुशल, नक्सलियों ने जारी की तस्वीर

बीजापुर @ खबर बस्तर। तर्रेम मुठभेड़ के बाद से लापता कोबरा बटालियन का जवान राकेश्वर सिंह मनहास नक्सलियों के कब्जे में है और सुरक्षित है। माओवादियों ने बुधवार को अपहृत CRPF जवान की तस्वीर जारी की है।

एक दिन पहले 6 अप्रैल को नक्सलियों ने प्रेस नोट जारी कर लापता जवान के अपने कब्जे में होने की बात कबूली थी। वहीं जवान के सकुशल होने की सूचना देते हुए कहा था कि सरकार पहले मध्यस्थों का ऐलान करें। फिर हम बंदी जवान को छोड़ देंगे।

Read More:

 

इधर, बुधवार को नक्सलियों ने मीडिया को बंदी जवान की तस्वीर जारी की है। जिसमें जवान राकेश्वर सिंह मनहास ताड़ पत्तों की बनी झोपड़ी में तिरपाल पर बैठे दिख रहे हैं। जवान वर्दी में नजर आ रहे हैं। 

यह भी पढ़ें :  'मुुंडा बाजा' लेकर थिरकने लगे CM भूपेश बघेल, जनजातीय साहित्य महोत्सव में लोक नर्तकों संग करने लगे डॉन्स

Read More:

 

आपको बता दें कि तर्रेम नक्सली हमले के बाद से ही सीआरपीएफ कोबरा बटालियन का जवान राकेश्वर सिंह मनहास लापता था। हालांकि, हमले के दूसरे दिन नक्सलियों ने सुकमा के एक पत्रकार को फोन कर बताया था कि जवान उनके कब्जे में है और सकुशल है। नक्सलियों ने समय आने पर जवान को छोड़ने की बात भी कही थी।

जम्मू कश्मीर निवासी जवान राकेश्‍वर सिंह मनहास नक्सलियों के कब्जे में सकुशल बताया जा रहा है। हालांकि, इस घटना के बाद से जवान के परिजन खासे चिंतित और परेशान हैं।

 

यह भी पढ़ें :  अमित शाह ने CM भूपेश बघेल से फोन पर की चर्चा, नक्सली हमले की ली जानकारी... कहा— केंद्र और राज्य सरकार मिलकर इस लड़ाई को अवश्य जीतेंगे

Read More:

– जवान की बेटी ने की मार्मिक अपील

हमले से एक दिन पहले हुई बात

इधर, जवान की पत्नी मीनू मनहास का रो रो कर बुरा हाल है। मीनू ने बताया कि उसकी अपने पति से शुक्रवार को बात हुई थी। उन्‍होंने कहा था कि वह अभी ऑपरेशन के लिए जा रहे हैं और शनिवार को लौटकर कॉल करेंगे। शनिवार को टीवी पर मुठभेड़ की खबर देखने के बाद पूरा परिवार उनकी कुशलता को लेकर परेशान है।

– जवान की पत्नी व मां

अपने पति के नक्सलियों के कब्जे में होने की सूचना मिलने के बाद मीनू मनहास ने पीएम नरेंद्र मोदी से रिहाई की गुहार लगाई है। उन्होंने पीएम से अपील करते हुए कहा कि, ‘मेरे पति को सुरक्षित वापस ले आओ, जैसे अभिनंदन को पाकिस्तान से वापस लाया था वैसे ही मेरे पति को भी वापस ला दो।’

यह भी पढ़ें :  'मांई दंतेश्वरी' के नाम से पहचाना जाएगा जगदलपुर का एयरपोर्ट, बस्तर के जनप्रतिनिधियों की मांग पर CM ने दी सहमति
– जवान राकेश्‍वर सिंह मनहास

आपको बता दें कि शनिवार को बीजापुर में हुए इस साल के सबसे बड़े नक्सली हमले में सुरक्षा बलों के 22 जवान शहीद हुए हैं। जबकि एक जवान मुठभेड़ के बाद से लापता हो गया था, जिसके नक्सलियों के कब्जे में होने की सूचना मिली है। इस मुठभेड़ में घायल 31 जवानों का इलाज चल रहा है।

Read More: