अब बिजली की ट्रिपिंग कम होगी, टेस्टिंग मोड पर धनोरा सब स्टेशन… वोल्टेज की समस्या भी होगी दूर

69

अब बिजली की ट्रिपिंग कम होगी, टेस्टिंग मोड पर धनोरा सब स्टेशन… वोल्टेज की समस्या भी होगी दूर

पंकज दाऊद @ बीजापुर। बारसूर से जिले के धनोरा सब स्टेषन तक टॉवर से बिजली की लाइन बिछाने का केवल आठ किमी का काम बचा है और एक माह में इसे पूरा कर लिया जाएगा। धनोरा सब स्टेषन का काम अंतिम चरण में है। इससे अब बिजली के बार-बार गुल होने की समस्या में नब्बे फीसदी तक कमी आएगी।

छग राज्य विद्युत वितरण कंपनी मर्यादित के कार्यपालन अभियंता पीआर साहू ने बताया कि बारसूर से धनोरा सब स्टेषन तक 132/33 केवी लाइन बिछाई जा रही है। सब स्टेषन का काम लगभग पूरा हो गया है। उन्होंने बताया कि ये नब्बे करोड़ रूपए का प्रोजेक्ट है।

यह भी पढ़ें :  लाॅकडाउनः सड़ गई चार लाख की सब्जी‚ गांवों के आसपास होने लगी बिक्री

पेड़ो की कटाई का मुआवजा 37 करोड़ रूपए वन विभाग को दिया जा चुका है। बारसूर से धनोरा तक 87 किमी में 304 टॉवर खड़े किए गए हैं। अभी आठ किमी लाइन का काम बचा हे।। धनोरा का सब स्टेषन टेस्ट मोड पर है। इसे एक सप्ताह लग सकता है। 30 सितंबर तक इस लाइन को चालू किए जाने का टारगेट रखा गया है।

17 को बिजली रहेगी गुल

बताया गया है कि 17 सितंबर को विष्वकर्मा पूजा है और इस दिन बारसूर-धनोरा लाइन को चालू रखने चार घंटे बिजली बंद रहेगी। इससे बीजापुर एवं दंतेवाड़ा जिले प्रभावित होंगे। रेलवे और एनएमडीसी को भी बिजली नहीं मिलेगी। ईई पीआर साहू ने बताया कि वैसे दो घंटे में काम पूरा होने का लक्ष्य रखा गया है लेकिन इसमें चार घंटे लग सकते हैं।

यह भी पढ़ें :  यूरोपियन केंचुआ बना रहा जैविक खाद, वर्मी कंपोस्ट की बिक्री शुरू

सख्ती नहीं लेकिन वसूली जरूरी

कोरोना काल में उपभोक्ताओं से भुगतान के लिए ज्यादा सख्ती नहीं बरती गइ्र्र लेकिन वसूली भी जरूरी है। उन्होंने बताया कि लोक सेवा केन्द्रां के जरिए बिल भुगतान की कोषिष की जा रही है लेकिन यहां कोई तैयार नहीं हो रहा है जबकि गीदम और दंतेवा़ड़ा में लोक सेवा केंदों के जरिए भुगतान हो रहा है। यहां कंपनी के कार्यालय में ही केन्द्रों के संचालकों को बैठने की सुविधा दी जा रही है ताकि कोई गड़बड़ी नहीं हो सके।

यह भी पढ़ें :  फोर्स नहीं होती तो 'बुधरी' दुनिया में नहीं होती... मलेरिया से पीड़ित बुजुर्ग महिला को बीमारी का पता ही नहीं था, जवानों ने पहुंचाया अस्पताल