अमित शाह ने बासागुड़ा पहुंच जवानों का बढ़ाया हौसला, कहा- ‘शहादत बेकार नहीं जाएगी, शहीदों के परिवार के साथ पूरा देश खड़ा’

72

अमित शाह ने बासागुड़ा पहुंच जवानों का बढ़ाया हौसला, कहा- जवानों ने नक्सलियों के दांत किए खट्टे… ‘शहादत बेकार नहीं जाएगी, शहीदों के परिवार के साथ पूरा देश खड़ा’

पंकज दाउद @ बीजापुर। गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को बासागुड़ा सीआरपीएफ कैम्प में जवानों से मुलाकात की और कहा कि सिलगेर के जंगल में हमारे वीरों ने नक्सलियों के दांत खट्टे किए। यहां मुठभेड़ मेें शहीद हुए जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी। उनके परिवार के साथ पूरा देश खड़ा है।

सोमवार की दोपहर एक बजे सीएम भूपेश बघेल एवं आला अफसरों के साथ बासागुड़ा में सीआरपीएफ की 168 बटालियन के कैम्प में पहुंचे एचएम अमित शाह ने सिलगेर के जंगल में मुठभेड़ में शामिल जवानों की तारीफ करते कहा कि नक्सलियों की मांद में पहले कोई नहीं घुसता था लेकिन इस बार सीधे जवानों ने जाकर नक्सलियों को मार गिराया। उनके दांत खट्टे कर दिए।

यह भी पढ़ें :  DGP की सख्ती का असर: ट्रांसफर रुकवाने में लगे 3 पुलिस अधिकारी सस्पेंड... DSP को कारण बताओ नोटिस, 60 कर्मचारी एकतरफा रिलीव

अमित शाह ने कहा कि पहले अंदरूनी इलाकों तक सड़क नहीं बन पा रही थीं लेकिन अब अंदरूनी इलाकों में जवानों के कारण सड़कें बन रही हैं। यहां फोर्स के कैम्प लगातार खुल रहे हैं। जवानों के जज्बे के कारण विकास हो रहा है। हमें नक्सलियों से और लड़ना पड़ेगा। विकास व्यक्तिगत नहीं है। ये पूरे देश का विकास है।

भारत सरकार और छग सरकार जवानों की तकलीफ को भली भांति समझती है। उन्हें और सुविधा दी जाएगी। इस बारे में अफसरों से चर्चा हुई है। सरकार इस पर बेहद गंभीरता से विचार कर रही है। नक्सल समस्या के कारण अंदरूनी इलाकों में रहने वाले लोग तरक्की नहीं कर पा रहे हैं। इस समस्या को खत्म करने केन्द्र और राज्य सरकार और सुविधा फोर्स को देगी।

सीएएम भूपेश बघेल ने कहा कि सरकारें जवानों के साथ हैं और उन्हें हर संभव सुविधा दी जाएगी। उन्होंने दिवंगत जवानों के परिजनों के लिए सहानुभूति व्यक्त की।

Read More:

 

यह भी पढ़ें :  IPL 2022 में जलवा दिखाएंगे CG के क्रिकेटर शशांक सिंह, सनराइजर्स हैदराबाद ने 20 लाख रुपए में खरीदा

एयरलिफ्ट में विलंब से होेने लगी है परेशानी

अमित शाह ने मुठभेड़ में शामिल जवानों से उनकी परेशानियों के बारे में चर्चा की। जवानों ने बेझिझक अपनी परेशानी बताई। सीआरपीएफ के एक सहायक कमाण्डेंट ने कहा कि एयरलिफ्ट में विलंब से घायलों की जान बचाने में परेशानी होती है। इस स्थिति से निपटने आवापल्ली या बासागुड़ा में एक हेलीकाॅप्टर की तैनाती जरूरी है।

एक जवान ने कहा कि बैकअप पार्टी के देर से आने से भी परेशानी होती है। एक जवान ने कहा कि मुठभेड़ के दौरान जवानों में डिहाइड्रेशन की समस्या आती है। इससे निपटने के लिए कोई दवा उपलब्ध होनी चाहिए।

यह भी पढ़ें :  छत्तीसगढ़ में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 50 हजार के पार... आज मिले 2545 पॉजिटिव मरीज, 12 की हुई मौत

कोबरा बटालियन के एक जवान ने कहा कि मुख्यालय दूर होने से जवानों को परेशान होना पड़ता है। अफसरों को सर्चिंग पार्टी के साथ रहना बेहद जरूरी है। एक कमाण्डिंग आफिसर की मुठभेड़ के वक्त बेहद जरूरत होती है।

इस दौरान भारत सरकार के गृह सचिव एके भल्ला, विशेष सुरक्षा सलाहकार के विजय कुमार, सीआरपीएफ के डीजी विनय कुमार, डीजी डीएम अवस्थी, सीआरपीएफ के डीजीपी कुलदीप सिंह, अशोक जुनेजा, आईजी सुंदरराज पी, कलेक्टर रितेश अग्रवाल, डीआईजी कोमल सिंह, एसपी कमलोचन कश्यप एवं अन्य अधिकारी मौजूद थे।


खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…