कन्या पोटा केबिन आश्रम में लगी भीषण आग, सारा सामान जलकर खाक

95

कन्या पोटा केबिन आश्रम में लगी भीषण आग, सारा सामान जलकर खाक

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। जिले में संचालित एक आवासीय विद्यालय में आगजनी की घटना सामने आई है। गीदम ब्लॉक के अंतर्गत कारली स्थित कन्या पोटा केबिन आश्रम में बीती रात भीषण आग लग गई। इस घटना में आवासीय विद्यालय में रखा सारा सामान जलकर खाक हो गया।

राहत की बात यह है कि भीषण आगजनी की इस घटना में किसी भी प्रकार की जनहानि नहीं हुई। दरअसल, कोरोना संकट काल की वजह से पिछले कई महीनों से पोटा केबिन में अध्ययनरत सभी छात्राएं छुट्टी पर चली गईं हैं। ऐसे में एक बड़ा हादसा होने से बच गया।

Read More: शिकारियों के लगाए बिजली के तार से लगा करंट, CRPF जवान की मौत

यह भी पढ़ें :  सुकमा में 1 जून तक जारी रहेगा लॉकडाउन, आदेश जारी... सिर्फ इन दुकानों को दोपहर 2 बजे तक खोलने मिली अनुमति!

बताया जा रहा है कि कारली स्थित कन्या पोटा केबिन में देर रात करीब 2 से 3 बजे के बीच अचानक आग की लपटें उठने लगी और देखते ही देखते पूरे आवासीय विद्यालय को इसने अपनी चपेट में ले लिया। भीषण आगजनी के चलते पोटा केबिन आश्रम का अधिकांश सामान, फर्नीचर व सरकारी रिकार्ड आदि जल गया है।

घटना की जानकारी मिलते ही विभागीय अधिकारी मौके पर पहुंचे और फायर ब्रिगेड को बुलाया गया। दमकल की टीम द्वारा काफी देर की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया। आग बुझाने से पहले ही पोटा केबिन का बड़ा हिस्सा आग की चपेट में आ चुका था जिससे आश्रम में काफी नुकसान हुआ है।

यह भी पढ़ें :  गणेश राम की शहादत को याद रखेगी पीढ़ियां: जिस स्कूल में की थी पढ़ाई, वही जाना जाएगा शहीद जवान के नाम से

शार्ट सर्किट का अंदेशा

कन्या पोटा केबिन में आग लगने के बाद आगजनी से हुए नुकसान का आंकलन किया जा रहा है। प्रथम दृश्टया शार्ट सर्किट की वजह से आश्रम में आग लगने की बात कही जा रही है। राजीव गांधी शिक्षा मिशन के जिला मिशन समन्वयक एसएल शोरी ने बताया कि आग से पोटा केबिन में बड़ा नुकसान हुआ है।

डीएमसी शोरी के मुताबिक, पोटा केबिन में अचानक आग लगी और इससे पहले की इस पर काबू पाया जाता आग की लपटें पूरे आश्रम में फैल गई। इस घटना में पोटा केबिन में रखे तखत, गद्दे, कंबल, चादर व अन्य सामान जलकर खाक हो गए। वहीं लाइब्रेरी, कम्प्यूटर रूम व लैब में भी आग ने जमकर तबाही मचाई।

यह भी पढ़ें :  सिलगेर: फोर्स ने आपा खोया, हादसा टल सकता था- मनीष कुुुंजाम... सीपीआई नेता ने न्यायिक जांच की मांग की

आगजनी की दूसरी वारदात

बता दें कि जिले के आश्रम छात्रावासों में आगजनी की यह दूसरी घटना है। करीब 3 साल पहले कटेकल्याण स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में भी आग लग गई थी। उस वक्त भी शार्ट सर्किट की वजह से आगजनी होने की बात सामने आई थी। हादसे में काफी नुकसान हुआ था।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…


खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…