कोरोना के डर से हॉस्पिटल से गायब हुए मरीज ! OPD में भी रोगियों की संख्या में चौंकाने वाली कमी… मेडिकल टीम ने शुरू किया डोर टू डोर सर्वे

82

कोरोना के डर से हॉस्पिटल से गायब हुए मरीज! OPD में भी रोगियों की संख्या हुई कम… मेडिकल टीम ने शुरू किया डोर टू डोर सर्वे

पंकज दाऊद @ बीजापुर। कोरोना की जांच को लेकर भोपालपटनम ब्लाॅक में ऐसी अफवाह फैल गई है कि अब सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में आने वाले मरीजों की संख्या में चौंका देने वाली कमी आई है। इसे देखते अब मेडिकल टीम ने डोर टू डोर सर्वे प्रारंभ कर दिया है।

भोपालपटनम में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में अभी पांच-छह मरीज ही भर्ती हैं। इनमें से ज्यादातर प्रसुति के लिए आए हैं या फिर मरीज पेट दर्द से पीड़ित हैं। सूत्रों के मुताबिक कोरोना काल से पहले यहां हमेशा 20 से 25 मरीज भर्ती रहते थे। यहीं हाल बाह्य रोगी विभाग का है। यहां अभी 30 से 40 मरीज आ रहे हैं जबकि पहले ये आंकड़ा 100 तक पहुंच जाता था।

यह भी पढ़ें :  दीपावली पर सुकमा पुलिस व CRPF जवान बने देवदूत… गर्भवती महिला की बचाई जान

Read More: कोरोना के नाम पर किडनी निकाले जाने की अफवाह ! आदिवासियों ने निकाली रैली… CMHO और डाॅक्टरों को बदलने की मांग

हाॅस्पिटल जाने पर कोरोना की जांच होगी और फिर भर्ती होना पड़ेगा, इस अफवाह से ये सब हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी लोगों को ये समझाने में लगे हैं कि ऐसा कुछ नहीं है। वे लोगों को इसकी जांच करवाने की सलाह दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) के विरोध में नक्सलियों ने 1 अप्रैल को दंडकारण्य बंद का किया आह्वान

Read More :

बताया गया है कि कुछ लोग खासकर देहात के लोग बीमार पड़ने पर जड़ी-बूटी का सहारा लेते हैं या फिर मेडिकल स्टोर से आकर दवा ले जाते हैं। सूत्रों के मुताबिक मेडिकल स्टोर के संचालकों को सख्त हिदायत है कि दवा लेने वाले का नाम और पता रोजाना बीएमओ को दें। इस समझाईश के बाद रोजाना बीएमओ कार्यालय को मेडिकल स्टोर से अपडेट मिल रहा है।

यह भी पढ़ें :  क्वारंटीन सेंटर से भागने वाले युवक के खिलाफ FIR दर्ज, तेलंगाना से लौटने पर किया गया था क्वारंटीन

डोर टू डोर सर्वे

सूत्रों की मानें तो इस समस्या के मद्देनजर भोपालपटनम ब्लाॅक के गांवों में डोर टू डोर सर्वे शुरू किया गया है। इसमें हर घर में जाकर बुखार एवं सर्दी-खांसी के मरीजों के बारे में पता लगाया जा रहा है। 11 सितंबर से शुरू हुए सर्वे में अब तक करीब 5 हजार परिवारों को कवर कर लिया गया है। मेडिकल टीम में पंचायत सचिव, आंगनबाडी कार्यकर्ता एवं मितानिन शामिल हैं।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…