जमीन किसानों की, फसल पूंजीपतियां की ! नई दिल्ली के आंदोलन के समर्थन में कांग्रेस की ट्रैक्टर रैली

23

जमीन किसानों की, फसल पूंजीपतियां की !
नई दिल्ली के आंदोलन के समर्थन में कांग्रेस की ट्रैक्टर रैली

पंकज दाऊद @ बीजापुर। नई दिल्ली में किसानों के आंदोलन को समर्थन देते कांग्रेस ने भैरमगढ़ में गुरूवार को ट्रैक्टर निकाली और मोदी सरकार को जमकर कोसा। कांग्रेस ने कहा कि केन्द्र ने ऐसा काला कानून पास किया है कि जमीन तो किसानों की होगी लेकिन इसकी फसल पर पूंजीपतियों को हक होगा।

ट्रैक्टर रैली से पहले जनपद कार्यालय के सामने किसानों की एक सभा का आयोजन किया गया। इस मौके पर बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष एवं स्थानीय विधायक विक्रम शाह मण्डावी ने कहा कि तीन काले कानून मोदी सरकार वापस नहीं लेगी, तो जिले के किसान नई दिल्ली तक जाएंगे।

यह भी पढ़ें :  दंतेवाड़ा के कटेकल्याण पहुंचे CM भूपेश बघेल... 14 करोड़ की लागत से होगा 143 देवगुड़ियों का कायाकल्प, विद्युत सब स्टेशन की घोषणा... मुख्यमंत्री ने डेनेक्स फैक्टरी का किया निरीक्षण, सांसद दीपक बैज को गिफ्ट किया शर्ट

निकट भविष्य में जिला मुख्यालय में भी इन कानूनों के विरोध में ट्रैक्टर रैली निकाली जाएगी। ये आंदोलन किसी पार्टी से जुड़ा नहीं है बल्कि किसानों से जुड़ा है। मोदी सरकार किसानों से बात करने को राजी ही नहीं है और अपनी बात पर अड़ी है।

सभा को संबोधित करते कांग्रेस प्रदेश महासचिव एवं बीजापुर प्रभारी रूक्मिणी कर्मा ने कहा कि ये आंदोलन अभी जरूरी है और जायज भी। आंदोलनरत किसानों पर पानी की बौछारें करना मोदी सरकार की असंवेदनशीलता को दर्शाता है। केन्द्र सरकार असल में किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य भी देना नहीं चाहती है।

यह भी पढ़ें :  BIG BREAKING: गृहमंत्री अमित शाह ने धारा 370 हटाने का संकल्प पेश किया... जम्मू-कश्मीर और लद्दाख अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश होंगे

प्रदेश कांग्रेस सचिव अजय सिंह ने कहा कि किसानों की आवाज केन्द्र सरकार के कानों तक नहीं पहुंची लेकिन पूंजीपतियों की आवाज पहुंच गई। तीनों कानून किसानों के हितों के खिलाफ हैं ओैर इसी वजह से किसानों को आंदोलन के लिए विवश होना पड़ा।

जिला कांग्रेस अध्यक्ष लालू राठौर ने कहा कि पेट्रोल और डीजल के दाम केन्द्र ने बढ़ा दिए हैं और इससे किसानों पर दोहरी मार पड़ी है। नए कानून से किसान बंधुआ मजदूर बन जाएंगे।

इस मौके पर जिला पंचायत अध्यक्ष शंकर कुड़ियम ने कहा कि तीन नए काले कानून लागू होते ही किसान बर्बाद हो जाएंगे। जिला पंचातय सदस्य बसंत राव ताटी ने आंदोलन के दौरान मृत किसानों को शहीद का दर्जा देने की मांग करते कहा कि नए कृषि कानून किसानों को पूंजीपतियों की गुलामी की ओर धकेल देंगे। तीन माह के अांदोलन के बाद भी मोदी सरकार नए कानूनों को वापस लेने पर विचार नहीं कर रही है।

यह भी पढ़ें :  स्कूल में अय्याशी करने वाला प्राचार्य सस्पेंड, महिला स्टाफ के साथ कमरे में रंगे हाथ पकड़ाया

सभा को सहदेव नेगी, भावेष कोरसा, बुधराम पोयाम, बुधराम कष्यप, लव रायडू, सीताराम मांझी आदि ने संबोधित किया। इस मौके पर संतकुमारी मण्डावी, जितेन्द्र हेमला, लच्छूराम मौर्य,रमेश पामभोई, कुशाल खान, सरिता वाचम आदि मौजूद थे। ट्रैक्टर रैली सभा स्थल से बस स्टैण्ड तक गई और फिर वापस सभा स्थल में विसर्जित हो गई।