जमीन नापने वाले ही नप गए… फर्जी जाति मामले में पटवारी की सेवा समाप्त, SDM ने की कार्रवाई

65

जमीन नापने वाले ही नप गए… फर्जी जाति मामले में पटवारी की सेवा समाप्त, SDM ने की कार्रवाई

पंकज दाउद @ बीजापुर। भोपालपटनम के एसडीएम उमेश पटेल ने उसूर ब्लाॅक के पटवारी राजू शाह का जाति प्रमाणपत्र कूटरचित एवं फर्जी पाए जाने के कारण शनिवार को उनकी सेवा समाप्त कर दी और हल्का नंबर आठ के पटवारी भानुप्रताप देव चिड़ियम को प्रभार सौंपने का आदेश दिया।

रावतपारा वार्ड क्रमांक दो राजू शाह पिता मोतीलाल शाह की पटवारी पद पर नियुक्ति अनुविभागीय अधिकारी राजस्व ने 30 जून 2016 में की। इसी आदेश में ये भी उल्लेखित है कि ये पद पूर्णतः अस्थायी है और नियोक्ता अधिकारी अभ्यर्थी की ओर से प्रस्तुत कोई भी तथ्य असत्य पाए जाने पर एक माह पहले नोटिस देकर सेवा समाप्त कर सकता है।

Read More:

 

यह भी पढ़ें :  मुठभेड़ में भारी पड़ने लगे जवान तो कैम्प छोड़ भागे नक्सली... पुलिस पार्टी ने कैम्प से विस्फोटक सहित सामान बरामद किया

26 नवंबर 2020 को पटवारी राजू शाह का जाति प्रमाण पत्र फर्जी होने के संबंध में शिकायतकर्ता घनश्याम यादव ने शिकायत प्रस्तुत की थी। पटवारी को अपना पक्ष प्रस्तुत करने के लिए युक्तियुक्त अवसर दिया गया। पटवारी ने 9 दिसंबर को जवाब पेश किया।

जवाब में पूर्वजों के नाम पर कृषि भूमि नहीं होने और अस्थायी जाति प्रमाणपत्र तहसील कार्यालय बीजापुर से 2006 में एवं स्थायीय जाति प्रमाणपत्र अनुविभागीय कार्यालय राजस्व बीजापुर कार्यालय से 2007 में बनने का लेख किया गया। शिकायतकर्ता का बयान 9 दिसंबर को दर्ज किया गया।

आरटीआई की जानकारी के आधार पर शिकायतकर्ता ने शिकायत की थी और इसके अलावा शिकायतकर्ता ने अन्य कोई साक्ष्य उपलब्ध नहीं कराया।शिकायतकर्ता को इसके लिए पर्याप्त अवसर दिया गया।

यह भी पढ़ें :  15 अगस्त पर 5 नक्सलियों ने किया सरेंडर, काला झंडा फहराने वाले माओवादियों के हाथों में दिखा तिरंगा

Read More:

पटवारी ने जाति प्रमाणपत्र में एक राजस्व प्रकरण का लेख किया लेकिन पटवारी के जाति प्रमाणपत्र में उल्लेखित प्रकरण किसी अन्य हितग्राही श्रीमती रामेश्वरी ति सुनील कुमार जाति मुरिया के नाम पर दर्ज है। पटवारी के चयन के बाद सत्यापन के विषय में अनुविभागीय अधिकारी कार्यालय राजस्व के कार्यालय में कोई नस्ती नहीं है।

एक जनवरी 2021 को उसूर तहसीलदार ने भी बताया कि पटवारी राजू शाह के जाति प्रमाणपत्र का सत्यापन नहीं हुआ है। एसडीएम उमेश पटेल ने पाया कि जाति प्रमाणपत्र कूटरचित होने के कारण शुरू से ही शून्य है।

यह भी पढ़ें :  मौसम अलर्ट: अगले 24 घंटों में भारी बारिश को लेकर अलर्ट जारी, छत्तीसगढ़ के इन 17 जिलों में होगी झमाझम बारिश!

सदाशयता का लाभ

चयन के बाद कार्यालय प्रमुखों की स्वाभाविक सदाषयता के कारण प्रमाणपत्र का सत्यापन नहीं किए जाने से ये गंभीर त्रुटि प्रकाश में नहीं आई। पटवारी की ओर से प्रस्तुत प्रमाणपत्र कूटरचित एवं फर्जी पाए जाने के कारण 2 जनवरी को सेवा समाप्त की गई। इसकी सूचना एक माह पहले राजू शाह पटवारी को सूचित किया गया। एक माह तक ये पटवारी तहसीलदार उसूर के कार्यालय में आदेशानुसार कार्य करते रहेंगे।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…

खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…