तीन माह में निपटे राजस्व के 75 केस, अब दफ्तर के चक्कर काटने की परेशानी खत्म

32

तीन माह में निपटे राजस्व के 75 केस, अब दफ्तर के चक्कर काटने की परेशानी खत्म

पंकज दाऊद @ बीजापुर। भोपालपटनम राजस्व अनुभाग में कोरोना और बाढ़ की आपदा के बीच तीन माह में ही 75 प्रकरणों का निपटारा एसडीएम उमेश कुमार पटेल ने कर दिया।

सबसे खास बात तो ये है कि पक्षकारों को इसके लिए ना तो एसडीएम कोर्ट के चक्कर ज्यादा नहीं काटने पड़े और ना ही रिश्वतखोरी के जाल में फंसना पड़ा। इससे पक्षकारों को त्वरित न्याय मिला और वक्त भी जाया नहीं हुआ।

राजस्व वर्ष एक अक्टूबर से तीस सितंबर तक का होता है। चालू राजस्व वर्ष में अप्रैल तक 36 मामले आए और मई में 6 केस आए। इसमें से 5 प्रकरणों का निराकरण किया गया। वहीं चालू राजस्व वर्ष में मई तक 42 केस दर्ज किए गए जबकि जून में 7 नए प्रकरण आए।

यह भी पढ़ें :  भीमा मण्डावी के पैतृक निवास पहुंची देवती कर्मा बोलीं- 'अपनों को खोने का दर्द मैं समझती हूं, क्योंकि मैंने भी अपना सुहाग खोया है'

Read More:

 

एसडीएम उमेश कुमार पटेल ने 21 मामलों में अंतिम आदेश पारित किया। वहीं चालू राजस्व वर्ष में जून तक 49 केस आए जबकि जुलाई में 43 मामले दर्ज किए गए। इनमें से जुलाई में ही 35 केस खत्म किए गए।

यह भी पढ़ें :  जब बाढ़ में फंस गई ट्रक, ड्राईवर की लापरवाही से ग्रामीणों की खतरे में पड़ी जान... रेस्क्यू टीम ने इस तरह बचाया, देखिए VIDEO

चालू राजस्व वर्ष में जुलाई तक 90 केस दर्ज किए गए और अगस्त में नए 34 नए मामले आए। इनमें से अगस्त में ही 19 प्रकरणों का निपटारा किया गया।

एसडीएम कोर्ट में अपील (नामांतरण),पुनरीक्षण, पुर्नविलोकन, व्यपवर्तन, बंदोबस्त त्रुटि सुधार, नामांतरण के विवादित एवं अविवादित मामले, अभिलेख सुधार, सीमांकन, नजूल प्रकरण, आदिवासी जमीन की बिक्री, विवादित एवं अविवादित खाता विभाजन, अतिक्रमण, भूअर्जन, भू राजस्व, पंचायत राज अधिनियम के प्रकरण, लोक न्यास, सालवेंसी आदि मामले आते हैं।

आपदा के बीच ऐसे हुआ काम

सूत्रों के मुताबिक 23 जून को जब से डिप्टी कलेक्टर उमेश कुमार पटेल ने एसडीएम का प्रभार संभाला है, तब से मामलों के निपटाने मे आश्चर्यजनक रूप से तेजी आई है।

यह भी पढ़ें :  यूपी और हरियाणवी खेतों की हवा लगी और वह बन गया 'बड़ा' किसान... 5 एकड़ में ली 80 क्विंटल उपज, अब मछली पालन भी

सबसे खास बात तो ये है कि भोपालपटनम समेत पूरी देश-दुनिया मे कोरोना से हाहाकार मचा है। जिले में इस बीच रेकॉर्ड बारिश हुई। कई मकान धराशायी हो गए और बाढ़ की आपदा भी इस साल भयंकर थी।

एसडीएम उमेश कुमार पटेल ने बाढ़ की आपदा के दौरान राहत के काम में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी लेकिन उन्होंने राजस्व प्रकरणों को निपटाने मे ढिलाई भी नहीं की। इस बीच गिरदावरी का काम भी हुआ।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…