धान खरीदी पर गरमाई सियासत… MLA मंडावी का सवाल, बारदाने नहीं थे तो भाजपा नेताओं ने कैसे बेचा धान !

31

धान खरीदी पर गरमाई सियासत… MLA मंडावी का सवाल, बारदाने नहीं थे तो भाजपा नेताओं ने कैसे बेचा धान !

पंकज दाऊद @ बीजापुर। बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष एवं स्थानीय विधायक विक्रम शाह मण्डावी ने किसानों की दशा पर भाजपा के आंदोलन को घड़ियाली आंसू करार देते सवाल किया कि छग में बारदानों की कमी है, तो पूर्व सीएम डाॅ रमन सिंह समेत दीगर भाजपा नेताओं ने अपना धान कैसे बेचा।

यहां पाटी कार्यालय में विधायक विक्रम मण्डावी, जिपं अध्यक्ष शंकर कुड़ियम, जिला कांग्रेस अध्यक्ष लालू राठौर, प्रदेश सचिव अजय सिंह, एआईसीसी मेंबर नीना रावतिया उद्दे, जिपं सदस्य बसंत राव ताटी समेत अन्य कांग्रेसी नेताओं ने शुक्रवार को भाजपा के किसान आंदोलन से कुछ ही देर पहले पत्रकार वार्ता की और कहा कि आंदोलन का कोई मतलब नहीं है।

यह भी पढ़ें :  ज्वाइन करते ही नए SP बोले- कैम्प खुलेंगे और ऑपरेशन भी चलेगा... नक्सलियों के सप्लाई चेन को रोकने पड़ोसी राज्यों से तालमेल

माहभर से ज्यादा वक्त से नई दिल्ली में किसान नए कृषि कानून को लेकर आंदोलन कर रहे हैं और मोदी सरकार चुप है। यहां किसान आंदोलन करने की बजाए नेताओं को नई दिल्ली में जाकर किसानों का समर्थन करना चाहिए।

कांग्रेस नेताओं ने कहा कि केन्द्र से साढ़े चार लाख गठान बारदानों की मांग की गई थी लेकिन केन्द्र ने इसे जारी नहीं किया और अब छग के भाजपा नेता धान खरीदी के लिए बारदानों की कमी बता रहे हैं। केन्द्रों में पर्याप्त बारदानें हैं। नए पुराने बोरों की व्यवस्था की गई है और मिलर्स से भी बारदाने लिए गए हैं।

यह भी पढ़ें :  छत्तीसगढ़ में कोरोना से कोहराम: एक ही दिन में 8 मरीजों की मौत, पॉजिटिव केस का आंकड़ा 10 हजार के पार... बस्तर में फिर फूटा कोरोना बम

Read More:

 

विधायक विक्रम मण्डावी ने कहा कि पूर्व सीएम डाॅ रमन सिंह के अलावा जिले के भाजपा नेताओं ने भी धान बेचा। तब उन्हें बारदानों की कमी नजर नहीं आई। कांग्रेस ने किसानों से जो वादा किया था, उसे पूरा किया।

भाजपा ने पंद्रह सालों में 259 करोड़ रूपए के कर्ज माफ किए जबकि कांग्रेस सरकार ने दो साल में ही 11270 करोड़ रूपए के ऋण माफ किए।

किसानों से छलावा किया

कांग्रेस नेताओ ने किसानों से मोदी सरकार पर छलावे का आरोप लगाते कहा कि आंदोलन पर नई दिल्ली में बैठे लोगों की ओर मोदी सरकार ध्यान नहीं दे रही है। कांग्रेस सरकार ने तमाम अंड़गों के बीच अब तक 90 फीसदी धान खरीद लिया है।

यह भी पढ़ें :  बस्तर में 11 दिनों में दूसरा बड़ा नक्सली हमला, 3 घंटे तक चले एनकाउंटर में 5 जवान शहीद

किसानों की सहानुभूति बटोरने यहां भाजपा आंदोलन कर भूपेश सरकार को बदनाम करने पर तुली हुई है। भाजपा मोदी सरकार की नाकामी को छिपा रही है और किसानों को भ्रमित कर रही है। 26 जनवरी के बाद इन मुद्दों को लेकर भाजपा जिलाध्यक्ष एवं पार्टी कार्यालय का घेराव कांग्रेसी करेंगे।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…

खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…