नक्सलियों की बदली रणनीति से फारेस्ट और हेल्थ वर्कर खौफजदा… एक महीने में नक्सलियों ने मचाया ताण्डव, जवानों के अलावा सरकारी अमले को भी बनाया निशाना

62

नक्सलियों की बदली रणनीति से फारेस्ट और हेल्थ वर्कर खौफजदा… एक महीने में नक्सलियों ने मचाया ताण्डव, जवानों के अलावा सरकारी अमले को भी बनाया निशाना

पंकज दाऊद @ बीजापुर। जिले में अब तक पुलिस और इनके मुखबिर ही नक्सलियों के निशाने पर थे लेकिन नक्सलियों की हालिया रणनीति से वन और स्वास्थ्य महकमे के लोग भी अब खौफ खाने लगे हैं। इसका सीधा असर मैदानी स्तर के कामकाज पर पड़ता दिख रहा है।

बता दें कि पिछले एक माह में नक्सलियों ने जिले में ताण्डव मचा रखा है। अज्ञात लोगों से मिली धमकी से स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी भी खौफ में हैं और वे इसके हल के लिए अफसरों से गुहार लगा रहे हैं।

गंगालूर एरिया के कई गांवों के लोगों ने 8 एवं 15 सितंबर को विशाल रैली निकालकर सीएमएचओ डाॅ बीआर पुजारी के अलावा चेरपाल पीएचसी और गंगालूर सीएचसी के डाॅक्टरों को हटाने की मांग की। इससे इस क्षेत्र में मैदानी स्तर पर सेवा दे रहे हेल्थ वर्कर्स में काफी भय है।

पता चला है कि इस बारे में इलाके के स्वास्थ्य कर्मियों ने आला अफसरों से चर्चा भी की लेकिन अब तक कोई नतीजा नहीं निकला।

इस बारे में जिले के एक आला पुलिस अफसर का कहना है कि नक्सलियों की ये रणनीति समझ से परे है। फोर्स की मुखालफत तो समझ आती है लेकिन सिविलयन खासकर वन एवं स्वास्थ्य महकमे को टारगेट करने का मकसद साफ नहीं है।

यह भी पढ़ें :  कोविड हॉस्पिटल गीदम में शुरू हुआ ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट, एक साथ 100 मरीजों को ऑक्सीजन सप्लाई हो सकेगी

पुलिस अफसर का कहना है कि गिरती साख और पुलिस की ओर लोगों के खिंचाव से नक्सली बौखला गए हैं। इसी बौखलाहट में वे बेकसूर लोगों की जान पुलिस मुखबिरी के नाम पर ले रहे हैं ताकि उनका खौफ बरकरार रहे।

इन जवानों ने दी शहादत

एक माह में नक्सलियों ने 4 जवानों की हत्या कर दी। कुटरू थाने में पदस्थ एएसआई कोरसा नागैया का नक्सलियों ने 30 अगस्त को रास्ते से तब अपहरण कर लिया था जब वे बाइक से दंतेवाड़ा जा रहे थे। थाने से कोई 5 किमी पहले उनकी हत्या कर दी।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों ने PMGSY के इंजीनियर व तकनीकी सहायक सहित 3 लोगों का किया अपहरण, घटना से प्रशासनिक महकमे में मचा हड़कंप !

Naxalites kidnapped and killed ASI

इस वारदात से एक सप्ताह पहले ही कुटरू के साप्ताहिक बाजार में नक्सलियों ने एक सहायक आरक्षक की हत्या की थी। बेदरे थाने में पहले पदस्थ और फिर बर्खास्त सिपाही की हत्या कर दी।वहीं नए पुलिस लाइन से बाहर निकले सीएएफ के जवान मन्नूलाल का नक्सलियों ने पहले अपहरण किया और 5 दिन बाद 18 सितंबर को उसकी हत्या कर दी।

Read More: नक्सली वारदात: पत्नी को जान से मारने की धमकी दी और घर के सामने ही किसान की कर दी हत्या… दो दिन पहले ही वारंगल से लौटा था मृतक

नक्सलियों ने इसके पहले मिरतूर के पास बेचापाल के एक सेल्समैन राजू को भी मौत के घाट उतार दिया था। वहीं भैरमगढ़ अभयारण्य के रेंजर रथराम पटेल की नक्सलियों ने 11 सितंबर को तब हत्या कर दी जब वे भुगतान करने गए थे।

यह भी पढ़ें :  प्रदेश में अब सप्ताह में 6 दिन खुलेंगी दुकानें, भूपेश सरकार का बड़ा फैसला... रेड जोन और कंटेंनमेंट एरिया में नहीं मिलेगी कोई छूट

पुलिस मुखबिरी का आरोप लगा मार डाला

नक्सलियों ने बैलाडिला पहाड़ी से लगे गंगालूर थाना क्षेत्र के हिरोली गांव में पुसनार और मेटापाल गांवों के चार लोगों को 4 सितंबर को पुलिस मुखबिरी के आरोप में मार डाला। इनमें से एक ही का शव पुलिस ने बरामद किया।

Read More:  सुकमा में नक्सली सप्लायर गिरफ्तार, विस्फोटक समान समेत 25 हजार रुपये बरामद

वहीं सप्ताहभर पहले गंगालूर थाना क्षेत्र के तोड़का गांव में नक्सलियों ने इसी आरोप पर सावनार और कोरचोली के चार लोगों की हत्या कर दी। 21 सितंबर को बासागुड़ा थाना क्षेत्र के पुतकेल में नक्सलियों ने एक किसान दासर रमन्ना की भी हत्या की।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…