नक्सलियों ने जारी किया प्रेस नोट, सुरक्षा बलों के कैम्पों की तैनाती का किया विरोध…लोन वर्राटू अभियान को लेकर कही ये बात !

41

नक्सलियों ने जारी किया प्रेस नोट, सुरक्षा बलों के कैम्पों की तैनाती का किया विरोध… लोन वर्राटू अभियान को लेकर कही ये बात !

के. शंकर @ सुकमा। नक्सलियों ने प्रेस नोट जारी कर बस्तर के अंदरूनी इलाकों में सुरक्षा बलों के कैम्पों की तैनाती किए जाने का विरोध जताया है। माओवादियों का आरोप है कि कैम्पों की स्थापना कर बस्तर के संसाधानों को कॉरपोरेट घरानों को लूटने दिया जा रहा है।

यह भी पढ़ें :  देश में इमरजेंसी लोकतंत्र का काला दिवस, कांग्रेस की मनोवृत्ति अभी भी वही- भाजपा

माओवादियों की दरभा डिवीजनल कमेटी के सचिव साईनाथ द्वारा यह प्रेस नोट जारी किया गया है। जिसमें कहा गया है कि विदेशी, दलाल, पूंजीपतियों को सुरक्षा देने के लिए दंन्तेवाड़ा जिले में नए नए पुलिस कैम्प खोले जा रहे हैं। इसका विरोध करें, कैम्प और खदान के विरोध में जन आंदोलन का निर्माण करें।

Read More: इस जिले के SP और एडिशनल SP को हुआ कोरोना… एक ही दिन दोनों IPS अफसरों की रिपोर्ट आई पॉजिटिव

यह भी पढ़ें :  जगरगुंडा एरिया कमेटी ने जारी किया प्रेसनोट, जवानों पर ग्रामीणों से मारपीट व लूटपाट का लगाया आरोप

नक्सलियों ने कहा है कि जम्मू कश्मीर में राष्ट्रीय आदोलन को कुचलने के लिए हर 17 नागरिकों के पीछे एक हथियार बंद सैनिक जवान को तैनात किया गया है। उसी तर्ज पर बस्तर संभाग में भी हर 5 किमी के दायरे में एक पुलिस कैम्प स्थापित कर कॉरपोरेट घरानों को बस्तर के संसाधानों को लूटने में आसानी की जा रही है।

इसका विरोध कर रही जनता पर अवैध गिरफ्तारी, फर्जी मुठभेड़, महिलाओं पर अत्याचार व झूठे सरेंडर दिखना पुलिस की दैनिक कार्यशैली बन गई है। दंतेवाड़ा पुलिस द्वारा चलाए जा रहे ‘लोन वार्राटू अभियान’ के तहत ग्रामीणों को धमकाते हुए इनामी नक्सली घोषित कर उन्हे सरेंडर दिखाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें :  फोर्स नहीं होती तो 'बुधरी' दुनिया में नहीं होती... मलेरिया से पीड़ित बुजुर्ग महिला को बीमारी का पता ही नहीं था, जवानों ने पहुंचाया अस्पताल

Read More: सहायक आरक्षक गया था ससुराल, लौटा तो पत्नी की लाश मिली