नक्सलियों ने मुखबिरी के शक में ग्रामीण को किया अगवा, बंधक बनाकर जमकर की पिटाई… DRG के जवानों ने 4 दिन बाद चंगुल से छुड़ाया

55

नक्सलियों ने मुखबिरी के शक में ग्रामीण को किया अगवा, बंधक बनाकर जमकर की पिटाई… DRG के जवानों ने 4 दिन बाद चंगुल से छुड़ाया

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों की एक और कायराना करतूत सामने आई है। यहां माओवादियों ने एक ग्रामीण को मुखबिरी के शक में अगवा कर लिया और बंधक बनाकर जमकर पिटाई कर डाली।

घटना के 4 दिन बाद डीआरजी की टीम ने रेस्क्यू कर ग्रामीण को नक्सलियों के चंगुल से छुड़ाया। फिलहाल, ग्रामीण को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसका इलाज चल रहा है। यह पूरा मामला कटेकल्याण थाना क्षेत्र का है।

यह भी पढ़ें :  चक्रवाती तूफान की वजह से हो रही बारिश, जानिए धान की फसल पर क्या असर छोड़ जाएगा 'क्यार' तूफान...?

Read More:

दंतेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव ने बताया कि टेटम गांव के स्कूल पारा निवासी भीमा मड़काम (32) पिता रामा मड़काम को नक्सलियों ने 6 जनवरी की देर रात अगवा कर लिया था। बताया गया है कि नक्सली बुधराम, विज्जा और पांडे सहित करीब 25-30 नक्सली भीमा मड़काम के घर पहुंचे और उसे उठाकर नयनार के जंगल में ले गए थे।

यह भी पढ़ें :  सड़क निर्माण रोकने पहुंचे नक्सलियों की ग्रामीणों से हुई हिंसक झड़प... एक नक्सली की मौत, एक घायल

नक्सलियों ने भीमा को घने जंगलों में बंधक बनाकर रखा और उसकी बेरहमी से पिटाई की। माओवादियों द्वारा की गई मारपीट के चलते उसके हाथ, पैर, पीठ व शरीर के अन्य हिस्सों पर चोट के निशान पड़ गए हैं। रविवार को जवानों ने उसे नक्सलियों के चंगुल से मुक्त कराया और कटेकल्याण के सीएचसी में भर्ती कराया गया।

जवानों ने रेस्क्यू कर बचाई जान

बताया जाता है कि मुखबिरी के संदेह में नक्सलियों ने भीमा मड़काम का अपहरण किया था। इसी बीच सूचना मिलने पर DRG की टीम ने नयानार के जंगल में धावा बोला और ग्रामीण को सकुशल बचाकर लाने से सफल रहे। उधर, जंगल में जवानों की दबिश के बाद नक्सली वहां से जान बचाकर भाग निकले।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…
यह भी पढ़ें :  आर्थिक नाकेबंदी: नक्सल समस्या का स्थायी हल भी चाहते हें आदिवासी… सिलगेर के दोषियों पर एफआईआर की मांग दोहराई

खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…