नक्सली वारदात: सरपंच और 2 फॉरेस्ट गार्ड को छोड़ दिया और रेंजर की कर दी हत्या…पंचायत भवन में भुगतान के दौरान उठाकर ले गए थे

53

नक्सली वारदात: सरपंच और 2 फॉरेस्ट गार्ड को छोड़ दिया और रेंजर की कर दी हत्या…पंचायत भवन में भुगतान के दौरान उठाकर ले गए थे

पंकज दाऊद @ बीजापुर। नक्सलियों ने भैरमगढ़ वन भैंसा अभयारण्य के रेंजर, सरपंच और दो वन रक्षकों को तब उठाकर ले गए जब वे शुक्रवार की दोपहर तीन बजे जांगला थाना क्षेत्र के कोण्ड्रोजी गांव में पंचायत भवन में मजदूरी भुगतान कर रहे थे। सरपंच एवं दो वन रक्षकों को नक्सलियों ने मुक्त कर दिया लेकिन रेंजर रथराम पटेल की जान ले ली।

नक्सलियों ने यहां से 40 किमी दूर कोण्ड्रोजी गांव में ष्षुक्रवार की दोपहर करीब तीन बजे भैरमगढ़ वन भैंसा अभयारण्य के रेंजर रथराम पटेल (56) की हत्या कर दी जबकि उनके साथ मजदूरी भुगतान करने गए दो कर्मचारियों को छोड़ दिया।

Read More: सहायक आरक्षक गया था ससुराल, लौटा तो पत्नी की लाश मिली

यह भी पढ़ें :  बुझ गया कांग्रेस का 'दीपक'... कोरोना ने छीन लिया बस्तर का भविष्य!

रथराम पटेल भैरमगढ़ से दोपहर अपने दो वन रक्षकों राजेष देहारी एवं पवन दुर्गम के साथ बाइक से मजदूरी भुगतान करने बीस किमी दूर जांगला थाना क्षेत्र के कोण्ड्रोजी गांव गए थे, जहां वे दोपहर तीन बजे पंचायत भवन में मजदूरी भुगतान कर रहे थे। तभी वहां नक्सली आ धमके और सरपंच, रेंजर एवं दो फारेस्ट गार्ड को उठाकर ले गए।

इसके बाद रेंजर की नक्सलियों ने छूरी और कुल्हाड़ी से वार कर हत्या कर दी। कोण्ड्रोजी में ही शव का पोस्टमार्टम किया गया और शव को भैरमगढ़ लाया गया। इस वारदात से भैरमगढ़ स्थित फारेस्ट कालोनी में माहौल गमगीन है।

Read More: इस जिले के SP और एडिशनल SP को हुआ कोरोना… एक ही दिन दोनों IPS अफसरों की रिपोर्ट आई पॉजिटिव

बताया गया है कि उनके पार्थिव शरीर को गृहग्राम ले जाने की तैयारी की जा रही है। रथराम पटेल ने 3 जनवरी को अभयारण्य में अपनी ज्वाइनिंग दी थी। वे दंतेवाड़ा सामान्य वन मण्डल के बचेली रेंज से यहां इंद्रावती टाइगर रिजर्व में तबादले पर आए थे।

यह भी पढ़ें :  'वंदे मातरम' के नारे के साथ निकली सुभाष की अंतिम यात्रा... पूरा गांव गमगीन, शोक में बंद रहीं दुकानें

Read More: नक्सलियों ने पटवारी की बेदम पिटाई की, पर्चे में लिखा— पटवारी और रेंजर को गांव में आने से मार भगाओ !

उनकी पत्नी एवं दोनों पुत्र भैरमगढ़ में फॉरेस्ट कालोनी में रहते हैं। उनके एक पुत्र बीएससी फाइनल में हैं और दूसरे ने हाल ही में नीट का एक्जाम दिया है। वे कुम्हारी, शिवरीनारायण जिला बलौदाबार के निवासी थे। वे प्रमोशन से रेंजर बने थे।

सक्रियता बढ़ाई माओवादियों ने

कई महीनों से शांत नक्सलियों ने एक पखवाड़े में अपनी सक्रियता बढ़ा दी है और लगातार एक के बाद एक वारदात को अंजाम दे रहे हैं। माओवादियों ने कुटरू क्षेत्र में एक एएसआई और एक सहायक आरक्षक की हत्या की। इसके बाद गंगालूर थाना क्षेत्र के पुसनार गांव में चार लोगां को मौत के घाट उतार दिया।

यह भी पढ़ें :  7 CRPF जवानों की हत्या में शामिल नक्सली गिरफ्तार, मैलावाड़ा ब्लॉस्ट की घटना में था शामिल

सुकमा जिले में दी थी चेतावनी

नक्सलियां की कोण्टा एरिया कमेटी ने कुछ दिन पहले एक पर्चा जारी कर वन एवं राजस्व विभाग के कर्मचारियों को चेतावनी दी थी। पर्चे में नक्सलियों ने पटवारी एवं रेंजरों को मार भगाने कहा था।

Read More: छत्तीसगढ़: 30 सितंबर तक नहीं खुलेंगे स्कूल, सिर्फ ऑनलाइन होगी पढ़ाई

नक्सलियों ने इसमें कहा था कि चालीस पैंतालिस साल से जनता अपने जल, जंगल और जमीन को बचाने अपनी जिंदगी चला रही है। सरकारी कर्मचारी इन्हें भटका रहे हैं और पटवारी गांव में लूट खसोट कर रहे हैं। नक्सलियों ने जन अदालत लगाकर इन्हें मौत की सजा देने की बात भी कही थी।