बर्ड फ्लू से नहीं, फुड पाइजनिंग से कॉमन मैना की मौत… महाराष्ट्र बॉर्डर से अब भी पोल्ट्री उत्पादों की आवक पर बैन

39

बर्ड फ्लू से नहीं, फुड पाइजनिंग से कॉमन मैना की मौत… महाराष्ट्र बॉर्डर से अब भी पोल्ट्री उत्पादों की आवक पर बैन

पंकज दाऊद @ बीजापुर। एक माह पहले नैमेड़ में सीआरपीएफ की 222 बटालियन कैम्प में 45 कॉमन मैना की मौत हो गई थी और बर्ड फ्लू के अंदेशे को लेकर सेंपल पुणे भेजे गए थे। लैब ने इस बात को साफ कर दिया है कि कॉमन मैना की मौत का सबब बर्ड फ्लू नहीं बल्कि फुड पाइजनिंग है।

पशुधन विकास विभाग के उप संचालक आनंद प्रकाश दोहरे ने बताया कि 18 जनवरी को नैमेड़ में 45 कॉमन मैना की मौत हुई थी। बर्ड फ्लू की आशंकाक को ले 5 मैना के सेंपल डिसीज इन्वेस्टिगैशन सेक्शन औंध पुणे भेजे गए थे। इसकी रिपोर्ट 8 फरवरी को आई। मौत का कारण संक्रामक रोग नहीं बल्कि फुड पाइजनिंग बताया गया है।

यह भी पढ़ें :  ज्वाइन करते ही नए SP बोले- कैम्प खुलेंगे और ऑपरेशन भी चलेगा... नक्सलियों के सप्लाई चेन को रोकने पड़ोसी राज्यों से तालमेल

डॉ दोहरे ने बताया कि कलेक्टर रितेश अग्रवाल के निर्देश पर पहले ही मुर्गी एवं अण्डों का अंतरजिला परिवहन शुरू किया गया था। महाराष्ट्र के नंदूरवार एवं नवापुर में बर्ड फ्लू का फैलाव हुआ है। इसे देखते महाराष्ट्र की ओर से इनके परिवहन पर पाबंदी बदस्तूर रहेगी। इधर, तेलंगाना और सीमांध्र से इस पर कोई बैन नहीं है।

रोज दो हजार अण्डे

डॉ दोहरे ने बताया कि जिले के स्व सहायता समूहों को 2100 लेयर मुर्गियां दी गई हैं। केरल की टॉप मोस्ट लेयर मुर्गियां बी वी 380 इस जिले में सुपोषण अभियान में काम आ रही हैं। अभिषेक हैचरी केरल से मुर्गियों को मंगाया गया है। विदेषों में निर्यात की जाने वाली इन मुर्गियों में साल में तीन सौ अण्डे देने की कैपिसिटी है। जिला खनिज न्यास एवं राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिषन के माध्यम से मुर्गियां समूहों को दी गई हैं।

यह भी पढ़ें :  भोपालपटनम के 15 वार्ड अंधेरे में डूबे, 6 महीने से स्ट्रीट लाइट बंद... ठेकेदार को मेंटेनेंस की सुध नहीं, पल्ला झाड़ रहे अधिकारी!

बताया गया है कि अब तक 48 मुर्गियों की मौत हुई है। इसके बदले कंपनी दूसरी मुर्गियां लाकर दे रही हैं। उन्होंने बताया कि रोजाना 1800 से 2000 अण्डों का उत्पादन हो रहा है। इन्हें महिला एवं बाल विकास विभाग खरीद रहा है।

बैकयार्ड पोल्ट्री

उप संचालक डॉ एपी दोहरे ने बताया कि बैकयार्ड पोल्ट्र के तहत जिले में आरआईआर एवं डब्ल्यू एलएल नस्ल की मुर्गियों को वितरण किया जा रहा है। एक यूनिट में 45 चूजे दिए जा रहे हैं। अभी गंगालूर, नैमेड़ एवं कुटरू इलाकों में इनका वितरण किया गया है। ये मांस और अण्डे दोनों पर्पस में काम आते हैं। छह माह में ये करीब डेढ़ किलो तक के हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें :  बचेली में मिला कोरोना संक्रमित मरीज, CISF के जवान की रिपोर्ट आई पॉजिटिव, बैलाडीला इलाके में कोरोना का पहला मामला