बस्तर जिले में 15 से 22 अप्रैल तक लॉकडाउन, एक सप्ताह तक सब कुछ बंद… कलेक्टर ने VIDEO संदेश जारी कर की अपील

89

बस्तर जिले में 15 से 22 अप्रैल तक लॉकडाउन, एक सप्ताह तक सब कुछ बंद… कलेक्टर ने VIDEO संदेश जारी कर की अपील

जगदलपुर @ खबर बस्तर। कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए बस्तर जिले में लॉकडाउन की घोषणा जिला प्रशासन ने की है। सम्पूर्ण जिले में 15 से 22 अप्रैल तक लॉकडाउन प्रभावी रहेगा। इस अवधि में मेडिकल को छोड़कर समस्त व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे।

बस्तर कलेक्टर रजत बंसल ने लॉकडाउन को लेकर आदेश भी जारी कर दिया है। आदेश में कहा गया है कि बस्तर जिले के सम्पूर्ण क्षेत्र को 15 अप्रैल की संध्या 6.00 बजे से 22 अप्रैल की रात्रि 12.00 बजे तक के लिए कंटेनमेंट जोन घोषित करते हुए जिले की सभी सीमाएं पूर्णतः सील करने के आदेश जारी किये गए हैं।

यह भी पढ़ें :  27 माओवादियों ने एक साथ किया सरेंडर, राज्य स्थापना दिवस पर नक्सलवाद से तोड़ा नाता

लॉकडाउन की अवधि में केवल मेडिकल दुकानों को अपने निर्धारित समय में खोलने की अनुमति दी गई है। इस दौरान संपूर्ण जिले में संचालित समस्त शराब दुकाने बंद रखने को कहा गया है। वहीं सभी धार्मिक, सांस्कृतिक एवं पर्यटन स्थलों को आम जनता के लिए पूर्णतः बंद रखने आदेशित किया गया है।

पेट्रोल पम्प संचालकों को केवल शासकीय शासकीय कार्य में प्रयुक्त वाहन, एटीएम कैश चैन, अस्पताल, मेडिकल इमरजेन्सी से संबंधित निजी वाहन, एम्बुलेस, एलपीजी परिवहन की वाहन, एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन, बस स्टेण्ड से संचालित ऑटो, टैक्सी, विधिमान्य ई-पास धारित करने वाले वाहन, प्रेस वाहन, न्यूज पेपर हॉकर, दुग्ध वाहन को पीओएल प्रदान करने की बात कही गई है।

यह भी पढ़ें :  16 IPS अफसरों का प्रमोशन... स्पेशल DG, एडीजी और IG के पद पर पदोन्नति, जानिए किन अफसरों को मिला प्रमोशन का तोहफा

आदेश में विवाह कार्यक्रम वर अथवा वधू के निवास गृह में ही आयोजित करने की शर्त के साथ आयोजन में शामिल होने व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 20 निर्धारित की गई है। अंत्येष्टि, दशगात्र इत्यादि मृत्यु संबंधी कार्यक्रम में शामिल होने वाले व्यक्तियों की अधिकतम संख्या 20 निर्धारित की है। उपरोक्त समस्त कार्यों के लिए संबंधित तहसीलदार से पूर्वानुमति लेना आवश्यक होगा।

जिले में सभी प्रकार की सभा, जुलूस, सामाजिक, धार्मिक एवं राजनैतिक आयोजन इत्यादि पूर्णतः प्रतिबंधित किया गया है। आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति, प्रतिष्ठानों पर आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 5160 भारतीय दण्ड संहिता 1850 की धारा 188 एवं अन्य संसुगत प्रावधानों के तहत कड़ी कार्यवाही करने की भी बात कही गई है।

यह भी पढ़ें :  डॉक्टर बनने की थी तमन्ना और बन गई नक्सली ! माओवादी दंपत्ति ने रखे मेन स्ट्रीम में कदम