भाजपा जिलाध्यक्ष के दलबदलू वाले बयान पर ताटी का पलटवार, कहा- मुदलियार जैसे नेताओं ने ही BJP की नैया डुबोई!

45

भाजपा जिलाध्यक्ष के दलबदलू वाले बयान पर ताटी का पलटवार, कहा- मुदलियार जैसे नेताओं ने ही BJP की नैया डुबोई!

मो. इरशाद खान @ भोपालपटनम। भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भोपालपटनम क्षेत्र के जिला पंचायत सदस्य बसंत राव ताटी ने  पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि मुदलियार जैसे ढुलमुल नेताओं ने ही प्रदेश में भाजपा की नैया डुबो दी है।

ताटी ने आरोप लगाते कहा कि भाजपा के प्रति श्री मुदलियार की निष्ठा का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि गत वर्ष संपन्न हुए त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में यह नेता अपने गृह ग्राम तिमेड़ तक में भाजपा समर्थित प्रत्याशी को वोट नहीं दिला सके।

ताटी ने कहा कि मुदलियार जी मुझे दलबदलू नेता कहने से पहले ख़ुद के गिरेबान में झाँककर देखें कि बीजापुर जिले में इनके पार्टी के कद्दावर नेताओं की राजनैतिक पृष्ठभूमि क्या रही है? जहाँ तक मेरे कांग्रेस पार्टी में प्रवेश करने का सवाल है, यह कोई हवा देखकर पाला बदलने वाला मामला नहीं है।

यह भी पढ़ें :  नदी पार गांवों में अफसर पहुंचे और पेंशन दिया, बेड रेस्ट वाले 5 मरीजों को भी मिला लाभ

10 साल पहले BJP से नाता तोड़ा

ताटी के मुताबिक, भाजपा प्रदेश नेतृत्व इस बात से अवगत है कि मैंने 10 साल पहले उस वक़्त पार्टी की सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया था, जब भाजपा सत्तारूढ़ थी। यदि मुझमें सत्ता-लोलुपता होती तो आज मैं भी मुदलियार जी की तरह भाजपा नेताओं की चाटुकारिता में लगा रहता। 

ताटी ने कहा कि मैंने कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद किसी लोभ से नहीं, बल्कि उसके संघर्षकाल में आम आदमी के पक्ष में उसकी लड़ाई में शामिल होने के लिये कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ली है।

क्षेत्र हित में कोई काम नहीं करने के आरोपों का जवाब देते ताटी ने कहा कि क्षेत्र की जनता ने मुझे अपना आशीर्वाद देकर पिछले चुनावों में लगातार जिताया है। मैंने अपने क्षेत्र में जनता के लिए कुछ किया अथवा नहीं, इसका प्रमाण पत्र मुझे जनता ने पहले ही दे दिया है। किसी और के प्रमाण-पत्र की मुझे दरकार भी नहीं है।

यह भी पढ़ें :  सैंकड़ों स्कूल भवन तोड़ने और छात्रों की हत्या करने वाले नक्सलियों के मुँह से शिक्षा की बातें शोभा नही देती: फ़ारूख अली

ताटी ने कहा कि भाजपा नेता मुदलियार का यह आरोप कि मैंने तालाबों और नहरों का कार्य कर अपना निजी स्वार्थ साधा है, बिल्कुल गलत है। मैंने कभी भी भाजपाइयों की तरह ठेकेदार द्वारा सड़क के लिए खोदे गये गड्ढे को तालाब बताकर शासकीय धन में हेराफेरी नहीं की है।

जिला पंचायत सदस्य ताटी ने यह भी कहा कि श्री मुदलियार में थोड़ी सी भी नैतिकता बची हो तो अपने बयान पर कायम रहें और तत्काल पद से त्यागपत्र दे दें, क्योंकि उन्होंने अपने नाम पर जमीन होते हुए भी झूठ बोला है कि वे भूमिहीन हैं।इस क्षेत्र में सभी जानते हैं कि श्रीनिवास मुदलियार की पैतृक भूमि ग्राम तिमेड़ के राजस्व अभिलेखों में अंकित है।

यह भी पढ़ें :  नक्सली का शव ले गया उसका छोटा भाई, मुठभेड़ में एक महिला नक्सली सुक्खी की भी मौत !

पेड़ों की कटाई का आरोप निराधार

ताटी ने कहा कि मुदलियार जी का यह आरोप कि मैंने बफर क्षेत्र की जमीन पर पेड़ों को कटवा कर अवैध कब्जा किया है, निराधार है। मैंने कहीं भी न तो पेड़ों को कटवाया है और न ही मेरा शासकीय जमीन पर कब्जा है। भाजपा जिलाध्यक्ष मीडिया के माध्यम से अनर्गल और हवाई जुमले उछालकर सुर्ख़ियों में बने रहना चाहते हैं, क्योंकि 15 वर्षों के शासनकाल में भाजपा ने इस क्षेत्र की जनता के हित में कोई काम नहीं किया है।