रावण दहन में सिर्फ 50 लोग ही हो सकेंगे शामिल, अधिकतम 10 फीट का होगा पुतला… CCTV व 100 मीटर के दायरे में बेरिकेटिंग करना अनिवार्य

127

रावण दहन में सिर्फ 50 लोग ही हो सकेंगे शामिल, अधिकतम 10 फीट का होगा पुतला… CCTV व 100 मीटर के दायरे में बेरिकेटिंग करना अनिवार्य

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। कोरोना संकट का असर त्यौहारों पर भी पड़ा है। कोविड के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा दशहरा पर्व को लेकर गाइडलाइन जारी की गई है।

कोरोना काल में इस बार दशहरे की रौनक देखने को नहीं मिलेगी। जिला प्रशासन ने दशहरा पर्व को लेकर समितियों के लिए गाइडलाइन जारी की है। इस बार समिति रावण के पुतले को 10 फीट से अधिक ऊंचा नहीं रख सकती है।

यह भी पढ़ें :  2 सहायक आरक्षकों की निर्मम हत्या, सड़क पर पड़ा मिला शव... अज्ञात हमलावरों ने बाइक रोककर वारदात को दिया अंजाम

Read More: पूर्व MLA के भाई के यहां शौचालय नहीं, SDM ने सरपंच को जारी किया नोटिस

गाइडलाइन के अनुसार पुतला दहन किसी बस्ती या रहवासी इलाकों में नहीं किया जा सकेगा। केवल खुले स्थान पर ही पुतला दहन होगा, दशहरा उत्सव के दौरान समिति के पदाधिकारी समेत अधिकतम 50 लोग शामिल हो सकेंगे।

रावण दहन के आयोजन में केवल पूजा करने वाले व्यक्ति ही शामिल हो सकेंगे। कार्यक्रम में अनावश्यक भीड़ न हो, इसकी जिम्मेदारी आयोजन समिति की होगी। आयोजन से 10 दिन पहले नगरीय निकायों में आवेदन करना होगा और सशर्त अनुमति मिलने के बाद ही पुतला दहन किया जा सकेगा।

यह भी पढ़ें :  छत्तीसगढ़ के इस जिले में 243 पदों के लिए निकली वैकेंसी... 21 मार्च से ऑनलाइन आवेदन शुरू, यहां देखिए पूरी जानकारी

इन नियमों का पालन करना अनिवार्य…

  • रावण दहन कार्यक्रम में केवल 50 लोग ही होंगे शामिल। समितियों को करानी होगी वीडियोग्राफी।
  • कार्यक्रम स्थल में 4 सीसीटीवी लगाना अनवार्य, ताकि संक्रमित होने पर आसानी से ट्रेसिंग की जा सके।
  • पुतला दहन में आने वाले सभी लोगों का रजिस्टर में नाम, पता, मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा।
  • दशहरा उत्सव में सांस्कृतिक कार्यक्रम, स्वागत, भंडारा, प्रसाद वितरण, पंडाल लगाने की अनुमति नहीं होगी।
  • सभी सदस्यों को मास्क और सेनिटाइजर के उपयोग के साथ सोशल डिस्टेंसिंग रखनी होगी।
  • कार्यक्रम के दौरान कोई व्यक्ति कोरोना संक्रमित होता है तो इलाज का खर्च समिति को उठाना होगा।
  • रावण दहन स्थल से 100 मीटर के दायरे में अनिवार्य रूप से बेरिकेटिंग कराना होगा।
  • कार्यक्रम में ढोल-धुमाल, डीजे और बैंड बजाने व किसी भी तरह का साज-सज्जा की अनुमति नहीं होगी।
  • आयोजन के दौरान यातयात नियमों का पालन करना जरूरी। अग्निशमन की व्यवस्था भी करना होगा।
  • कंटेनमेंट जोन में रावण दहण की अनुमति नहीं मिलेगी। यदि अनुमति के पश्चात क्षेत्र कंटेनमेंट जोन घोषित होता है तो तत्काल कार्यक्रम निरस्त किया जाएगा।
यह भी पढ़ें :  नक्सलियों ने बीच बाजार युवक को मार दी गोली, पुलिस मुखबिरी के आरोप में एक और हत्या

 

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…