लापता जवान नक्सलियों के कब्जे में… माओवादियों ने मीडिया को फोन कर दी जानकारी, जवान को छोड़ने के बारे में कही ये बात!

62

मुठभेड़ के बाद से लापता जवान नक्सलियों के कब्जे में… माओवादियों ने मीडिया को फोन कर दी जानकारी, जवान को छोड़ने के बारे में कही ये बात!

बीजापुर/सुकमा @ खबर बस्तर। शनिवार को छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में हुई मुठभेड़ के बाद से लापता कोबरा बटालियन के जवान का सुराग लग गया है। लापता जवान नक्सलियों के कब्जे में है। इस बात का खुलासा खुद नक्सलियों ने किया है।

Naxalites killed a relative of a police jawan

बताया जा रहा है कि नक्सलियों ने सुकमा के एक पत्रकार को फोन कर ये सूचना दी है कि लापता जवान राकेश्वर कुमार मनहास उनके कब्जे में है। माओवादियों द्वारा आश्वस्त किया गया है कि जवान पूरी तरह से सुरक्षित है। खबर है कि समय आने पर जवान को छोड़ने की बात नक्सलियों ने की है। 

जवान के लापता होने व अपहरण की आशंका के चलते जवान की पत्नी ने अपने पति की सकुशल रिहाई को लेकर नक्सलियों से अपील भी की थी। वहीं अब जवान के सकुशल होने की जानकारी सामने आने के बाद परिजनों को कुछ राहत मिली है। हालांकि, जवान की रिहाई के बारे में नक्सलियों ने कोई डेडलाइन नहीं दी है लेकिन इतना साफ किया है कि वे उसे नुकसान नहीं पहुंचाएंगे। 

इधर, ऐसी भी खबरें है कि नक्सली कमांडर हिड़मा ने बीजापुर के एसपी कमलोचन कश्यप को फोन कर लापता जवान के उनके चंगुल में होने की सूचना दी है। हालांकि, इस पूरे मामले में अभी तक पुलिस अधिकारियों द्वारा कोई आधिकारिक बयान सामने नहीं आया है।

बता दें कि 3 अप्रैल को बीजापुर के तर्रेम इलाके में पुलिस व नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ के बाद 23 जवानों के लापता होने की सूचना मिली थी। रविवार को इनमें से 22 जवानों के शव बरामद कर लिए गए। लेकिन जम्मू-कश्मीर निवासी कोबरा बटालियन का एक जवान राकेश्वर कुमार मनहास का कोई सुराग नहीं मिल पा रहा था। 

मुठभेड़ के बाद से ही पुलिस द्वारा लापता जवान की तलाश शुरू कर दी गई थी लेकिन उसका कोई लोकेशन नहीं मिल पा रहा था। लापता जवान के अपहरण की भी आशंका जताई जा रही थी, जो आखिरकार सही साबित हुई। 

Read More:

 

यह भी पढ़ें :  चक्रवाती तूफान की वजह से हो रही बारिश, जानिए धान की फसल पर क्या असर छोड़ जाएगा 'क्यार' तूफान...?

आपको बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज छत्तीसगढ़ के दौरे पर हैं। बस्तर पहुंचने के बाद सबसे पहले उन्होंने जगदलपुर में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी और बीजापुर के बासागुड़ा रवाना हो गए। वहां वे कैम्प में जवानों से मिलकर हालात का जायजा लेंगे। साथ ही नक्सल मोर्चे पर उच्च स्तरीय बैठक भी लेने वाले हैं।

गृह मंत्री अमित शाह के दौरे के समय लापता जवान के नक्सलियों के कब्जे में होने की सूचना मिल रही है। खबर है कि आज की बैठक में इस मसले पर भी चर्चा हो सकती है। गृह मंत्री अमित शाह बीजापुर से लौटकर रायपुर में घायल जवानों से मुलाकात भी करेंगे।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों ने बस्तर बटालियन का किया विरोध, ग्रामीणों की निजी जमीन में जबरदस्ती कैम्प खोलने का लगाया आरोप... SP बोले, सत्ता खिसकने से बौखलाए नक्सली !

Read More: