लापता युवक को परिजनों ने समझ लिया था मृत, पुलिस में करा दी थी FIR… 6 महीने बाद सकुशल मिला युवक, युवा नेता की मदद से इस तरह लौटी खुशियां

36

लापता युवक को परिजनों ने समझ लिया था मृत, पुलिस में करा दी थी FIR… 6 महीने बाद सकुशल मिला युवक, युवा नेता की मदद से इस तरह लौटी खुशियां


दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। कोरोना संकट काल में कई जिंदगियां तबाह हो गई हैं। सदी की सबसे बड़ी इस त्रासदी में कितनों के रोजगार छूट गए, कितनी जानें चली गई, तो कई घर से बेघर हो गए।

कुछ ऐसी ही कहानी बिहार के मोतिहारी निवासी उमेश यादव की है, जो लॉकडाउन के 6 महीने बाद भी अपने घर परिवार से सैकड़ों मील दूर भटकने को मजबूर था। दरअसल, रोजी रोटी की तलाश में उमेश अपने साथी के साथ तेलंगाना चला गया था। वहां वह कुछ कामकाज कर रहा था।

रोजगार छूटा, घर से हुआ दूर

इसी दौरान कोरोना संकट में कामकाज छूट जाने और बेरोजगारी के चलते लॉकडाउन के बाद वह अपने घर जाने तेलंगाना से निकला लेकिन रास्ता भटकते हुए बीजापुर के भोपालपटनम पहुँच गया था। इत्तेफाक से उसकी मुलाकात दंतेवाड़ा भाजपा के युवानेता सुमित भदौरिया से हुई, जिसने परिजनों से मिलवाने में उमेश की मदद की।

यह भी पढ़ें :  भाजपा ने दिलाई दंतेवाड़ा को नई पहचान, कांग्रेस सरकार में थम गया विकास: ओपी चौधरी
– उमेश के साथ सुमित भदौरिया

कोरोना के दौर में रोजगार गंवा चुके और दूसरे राज्य में भटकते युवक के बारे में जानकारी मिलने पर सुमित भदौरिया ने उसे घर भिजवाने का बीड़ा उठाया। सुमित ने उमेश की तस्वीर और वीडियो बनाकर बिहार के प्रदेश संगठन व कार्यकर्ताओं से संपर्क करना शुरू किया।

Read More: बस्तर की गोंडी भाषा को मिली अंतरराष्ट्रीय पहचान… Google ने तैयार किया यूनिकोड फॉन्ट, अब गोंडी में टाइप भी कर सकेंगे

बिहार के बीजेपी संगठन से जुड़े शशिकांत झा व चुनचुन की मदद से मोतिहारी जिलाध्यक्ष फिर मंडल अध्यक्ष इस तरह कड़ी दर कड़ी उमेश की मदद सबने मिलकर शुरू की। जिसके बाद उमेश के बीजापुर के भोपालपटनम में सकुशल रहने की खबर परिजनों तक पहुँच गई।

यह भी पढ़ें :  'कखगघ' के इन सिपाहियों ने नक्सलगढ़ में पेश की नज़ीर... उफनती नदी पार कर पहुंचते हैं स्कूल, कोरोना काल में भी गढ़ रहे बच्चों का भविष्य

घरवालों ने मृत मान लिया था

बता दें कि लॉकडाउन के दौरान उमेश और उसका साथी तेलंगाना से बिहार के लिए ही पैदल ही निकले थे। उमेश का साथी तो बिहार पहुँच गया लेकिन उमेश पीछे छूट गया था। कई दिनों बाद भी उमेश जब घर नहीं पहुँचा तो परिजनों ने उसकी बहुत खोजबीन की।

Read More: बस्तर में युवती के साथ गैंगरेप, पीड़िता ने कर ली आत्महत्या… पुलिस ने कब्र खोदकर निकाला शव, 5 आरोपी गिरफ्तार

काफी जद्दोजहद के बाद भी जब उमेश का कोई सुराग नहीं मिला तो परिजनों को उमेश के साथी पर शक हुआ। इसके बाद घर वालों ने उमेश को मृत मानते हुए उसके साथी पर गुम होने का आरोप लगाते हुए पुलिस में एफआईआर दर्ज करवा दी थी।

यह भी पढ़ें :  होली से पहले धूम मचा रहा 'फागुन चो महीना इली होली'... YouTube पर छाया हल्बी वीडियो एलबम, दंतेवाड़ा के युवाओं का दिखा जलवा

Read More:

 

आखिरकार युवा नेता सुमित भदौरिया की मुहिम रंग लाई और उमेश के सकुशल होने की सूचना घरवालों को मिली। उमेश के घर लौटने की उम्मीद छोड़ चुके परिजन अब इस सूचना के बाद खासे खुश हैं। बताया गया है कि उमेश को लेने के लिए घरवाले बिहार से बस्तर के लिए रवाना हो गए हैं।



खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…


 

आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…