व्हॉलीबॉल के रास्ते मेन स्ट्रीम में युवाओं को बांधे रखने की फोर्स की कोशिश… धुर नक्सल प्रभावित 14 गांवों के खिलाड़ी आए CRPF की स्पर्धा में

65

व्हॉलीबॉल के रास्ते मेन स्ट्रीम में युवाओं को बांधे रखने की फोर्स की कोशिश… धुर नक्सल प्रभावित 14 गांवों के खिलाड़ी आए सीआरपीएफ की स्पर्धा में

पंकज दाऊद @ बीजापुर। सीआरपीएफ की 229 बटालियन की डी कंपनी की ओर से यहां से पच्चीस किमी दूर उसूर ब्लॉक के चेरामंगी गांव में आयोजित व्हालीबॉल स्पर्धा में धुर नक्सल प्रभावित 14 गांवों के युवा पहुंचे। इस तरीके से अंदरूनी गांवों के युवाओं को समाज की मुख्यधारा में बांधकर रखने की सीआरपीएफ कोशिश कामयाब होती दिखाई दे रही है।

यह भी पढ़ें :  PMGSY में अनोखा कारनामा, ‘अदृश्य’ शक्ति काट रही करोड़ों के चेक ! ठेकेदारों को ई पेमेंट भी होने लगा

लीग कम नॉक आउट व्हॉलीबॉल स्पर्धा का उदघाटन सीआरपीएफ की 229 बटालियन के सीओ विवेक भण्डराल ने सोमवार की सुबह किया। इस स्पर्धा का समापन बुधवार को किया जाएगा। इसमें बीजापुर स्पोटर्स अकादमी, आवापल्ली, पुतकेल, तिम्मापुर, मुरदण्डा, फरसेपल्ली, मुरकीनार,नुकनपाल, चेरामंगी, चेरकडोडी, भण्डारपाल, कोतागुड़ा, दुगईगुड़ा, धारावरम समेत 14 गांवों की टीमों ने हिस्सा लिया है।

ये सभी गांव धुर नक्सल प्रभावित हैं। उदघाटन समारोह में द्वितीय कमान अधिकारी किषोर कुमार, सहायक कमाण्डेंट गौरव सिंह, कंपनी कमाण्डर विजय कुमार, इंस्पेक्टर जितेन्द्र कुमार एवं अन्य अधिकारी मौजूद थे। इस स्पर्धा को देखने अंदरूनी गांवों से लोग आए थे।

यह भी पढ़ें :  कांकेर में मिला कोरोना संक्रमित मरीज, मुंबई से लौटे युवक की रिपोर्ट आई पॉजिटिव

स्पर्धा में भाग लेकर हारी टीम को बैट, व्हालीबॉल, फुटबॉल एवं अन्य खेल सामग्री दी जा रही है। जीती हुई टीम के प्रत्येक खिलाड़ी को खेल सामग्री के अलावा टी शर्ट एवं हाफ पेंट दिया जा रहा है। विजेता एवं उप विजेता टीमों को शील्ड एवं प्रशस्ति पत्र दिए जाएंगे।

सीआरपीएफ की 229 बटालियन की डी कंपनी हमेशा खेल का आयोजन करवाती रही है। इससे गांव के युवाआेंं को भटकाव के रास्ते से दूर रखने की कोशिश की जा रही है। खेल के अलावा शिक्षा एवं चिकित्सा के क्षेत्र में भी बटालियन ने कदम बढ़ाए हैं।

यह भी पढ़ें :  आइसोलेशन वार्ड में ड्यूटी करने से किया इंकार, मेडिकल कालेज प्रबंधन ने 19 डॉक्टरों को थमाया नोटिस