संग सोई पत्नी को पता ही नहीं चला कि पति का गला कट गया ! बर्खास्त सहायक आरक्षक की हत्या, सुबह खाट में मिला शव

61

संग सोई पत्नी को पता ही नहीं चला कि पति का गला कट गया ! बर्खास्त सहायक आरक्षक की हत्या, सुबह खाट में मिला शव

पंकज दाऊद @ बीजापुर। संदिग्ध नक्सलियों ने जांगला गांव में मंगलवार-बुधवार की दरमियानी रात थाने के समीप राहत शिविर में रह रहे बर्खास्त आरक्षक सोनूराम कुंजाम (45) की गला रेतकर हत्या कर दी।

जब उसकी हत्या की गई तो उसकी पत्नी उसके साथ ही सोई थी लेकिन उसे तनिक भी पता नहीं चल पाया। सुबह उठने पर वारदात का पता चला।

सूत्रों के मुताबिक मंगलवार को जांगला में मेला था और सोनू मेले से लौटकर भोजन कर आंगन में खाट में सो गया। सुबह करीब छह बजे जब उसकी पत्नी उठी तो उसे मृत पाया।

यह भी पढ़ें :  पूर्व मंत्री के आरोपों से सरपंच संघ खफा... सफाई देते कहा- मनरेगा के काम मशीनों से नहीं हो रहे, माफी मांगें भाजपा नेता

सोनू के पुत्र सीताराम कुंजाम ने बताया कि उनका परिवार सलवा जुड़ूम चालू होने के बाद 2005 में 10 किमी दूर पोटेनार गांव से जांगला राहत शिविर में आकर रहने लगा और इस बीच उनके पिता की नौकरी पुलिस विभाग में लग गई।

Read More:

वे चार महीने से काम पर नहीं जा रहे थे। सीताराम को शक है कि पोटेनार से आए नक्सलियों ने ही उनके पिता की हत्या की है।

यह भी पढ़ें :  रक्षाबंधन पर 3 अगस्त को राखी, मिठाई और किराना की दुकानें खुलेंगी, प्रशासन ने जारी किया आदेश

इधर, पुलिस का मानना है कि नक्सली वारदात होने पर संदेह है क्योंकि नक्सली पर्चा छोड़कर जाते और हत्या का सबब बताते लेकिन ऐसा नहीं हुआ। मसला आपसी रंजिश का प्रतीत होता है।

बताया गया है कि सोनूराम पहले बेदरे में पदस्थ था और फिर उसका तबादला नैमेड़ थाने में किया गया। वह लंबे समय से गैर हाजिर था। विभागीय जांच के बाद उसे बर्खास्त कर दिया गया।

बुधवार सुबह पुलिस ने एफआईआर दर्ज की और शव को पीएम के लिए भैरमगढ़ भेजा। सोनूराम की छह लड़कियां और दो लड़के हैं। पुलिस का कहना है कि वह शराब पीने का आदी था।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…
यह भी पढ़ें :  'मेडारम मेले' में इस बार दिखेगा बड़ा बदलाव, तेलंगाना सरकार ने इस पर लगा दी है पाबंदी !

खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…