सांसद दीपक बैज ने दिल्ली में बुलंद की बस्तर की आवाज… संसद में उठाया नगरनार स्टील प्लांट का मामला

79

सांसद दीपक बैज ने दिल्ली में बुलंद की बस्तर की आवाज… संसद में उठाया नगरनार स्टील प्लांट का मामला

जगदलपुर @ खबर बस्तर। बस्तर के कांग्रेस सांसद दीपक बैज संसद में बस्तर की आवाज बनकर उभरे हैं। उनके सांसद चुने जाने के बाद से बस्तर के कई अहम मुद्दे संसद में उठाए गए। गुरूवार को उन्होंने नगरनार स्टील प्लांट के मसले पर संसद का ध्यान आकर्षण कराया।

बता दें कि बस्तर सांसद दीपक बैज ने अधिनियम 377 के अंतर्गत सरकार के समक्ष संसद पटल पर नगरनार स्टील प्लांट का मामला लिखित में रखा। बताया गया है कि इसका जवाब सदन के द्वारा बस्तरवासियों को लिखित में दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें :  नगर पंचायत चुनाव: 7018 लोग करेंगे मतदान, एक मतदाता थर्ड जेंडर

Read More: कोरोना के नाम पर किडनी निकाले जाने की अफवाह ! आदिवासियों ने निकाली रैली… CMHO और डाॅक्टरों को बदलने की मांग

सांसद बैज ने लिखा है कि बस्तर के खनिज संपदा का दोहन वर्षों से चल रहा है। एनएमडीसी के नगरनार स्टील प्लांट को केंद्र सरकार निजीकरण कर रही है। इस प्लांट हेतु 610 हेक्टेयर निजी जमीन अधिग्रहित है और 211 हेक्टेयर जमीन छत्तीसगढ़ प्लांट के इस्तेमाल हेतु है।

यह भी पढ़ें :  दंतेवाड़ा में महकेगी छत्तीसगढ़ी स्वादिष्ट व्यंजनों की खुशबु, जिले में गढ़कलेवा का संचालन शुरू

बस्तर में आदिवासियों के हित की रक्षा हेतु पेसा कानून 1996 लागू है। ऐसे में नियमों की अनदेखी करते हुए नगरनार प्लांट का निजीकरण अव्यवहारिक है। तकरीबन 15 वर्षों से 20 हजार करोड़ की लागत से बन रहे प्लांट के शुरूआत के ठीक पहले सरकार इसे निजी हाथों में बेच रही है।

Read More:


इस मसले को लेकर बस्तर की जनता आंदोलित है। वहीं स्टील प्लांट में नौकरी का सपना टूटते देख स्थानीय नौजवान आक्रोशित है। जनता की भावनाओं के विरुद्ध केन्द्र सरकार द्वारा राष्ट्र की संपदा बेची जा रही है। इसका बस्तरवासी विरोध करते हैं।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…
यह भी पढ़ें :  CG में कोरोना के सारे रिकार्ड टूटे, एक दिन में मिले 5818 संक्रमित... राजधानी में टूटा कहर, 2200 से ज्यादा मरीज मिलने से हड़कंप, 31 की मौत भी