सागौन कटाई केस में सत्ता के दबाव में प्रशासन- सीपीआई… प्रदर्शन की अनुमति नहीं देना लोकतंत्र की हत्या

40

सागौन कटाई केस में सत्ता के दबाव में प्रशासन- सीपीआई… प्रदर्शन की अनुमति नहीं देना लोकतंत्र की हत्या

पंकज दाउद @ बीजापुर। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेताओं ने आरोप लगाया है कि जिला मुख्यालय में जनपद स्कूल परिसर में सागौन के आठ पेड़ों को जमींदोज करने के मामले में कांग्रेसियों का हाथ है और इसकी जांच नहीं हो रही है। ऐसा जान पड़ता है कि प्रशासन सत्ता के भारी दबाव में है।

– पत्रवार्ता लेते सीपीआई के नेता

सीपीआई के जिला सचिव कमलेश झाड़ी, वरिष्ठ वामपंथी हेमला कोवा, जिला परिषद सदस्य संजय झाड़ी, जेम्स कुड़ियम एवं महेश तेलाम ने यहां पत्रकारों से चर्चा में आरोप लगाया कि इन पेड़ों की कटाई में कांग्रेसियों की संलिप्तता है और इस वजह से प्रकरण को दबाने की कोषिष की जा रही है।

यह भी पढ़ें :  कांग्रेस की जीत पर सीएम भूपेश बघेल ने किया ट्वीट, महेन्द्र कर्मा की शहादत को लेकर कही ये बात!

भाकपा नेताओं ने कहा कि आठ जुलाई को मसले की जांच के लिए कलेक्टर को एक ज्ञापन दिया गया था लेकिन अब तक कार्रवाई होती दिखाई नहीं दे रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि 16 जुलाई को इस केस को लेकर प्रदर्शन के लिए अनुमति मांगने तीन दिनों तक कलेक्टोरेट के चक्कर उन्होंने लगाए लेकिन उन्हें इसके लिए अनुमति नहीं मिली।

ये एक तरह से लोकतंत्र की हत्या है। ये संवैधानिक अधिकारों को छीनने की श्रेणी में आता है। जब जिला मुख्यालय के केन्द्र में पेड़ों की कटाई हो रही है तो जंगल का क्या हाल होगा। सदियों से यहां के आदिवासी जंगल को बचाते आए हैं और जल, जंगल व जमीन पर उनका हक है। इस हक को मारा जा रहा है।

यह भी पढ़ें :  धान खरीदी पर गरमाई सियासत... MLA मंडावी का सवाल, बारदाने नहीं थे तो भाजपा नेताओं ने कैसे बेचा धान !

भ्रष्टाचार के कीर्तिमान

सीपीआई जिला सचिव कमलेश झाड़ी ने आरोप लगाया कि कांग्रेस के राज में भ्रष्टाचार चरम पर पहुंच गया है। भ्रष्टाचार के नित नए कीर्तिमान गढ़े जा रहे हैं। पीएमजीएसवाय हो या नरेगा, सभी में खुलकर भ्रष्टाचार हो रहा है लेकिन इस ओर किसी का ध्यान नहीं है। विकास के काम ठप होते जा रहे हैं।