100 रूपए में ही पकड़े जा रहे खेतों को नुकसान पहुंचाने वाले कीड़े… महंगे उपकरण की बजाए सस्ता तरीका निकाला कृषि छात्रों ने

19

100 रूपए में ही पकड़े जा रहे खेतों को नुकसान पहुंचाने वाले कीड़े… महंगे उपकरण की बजाए सस्ता तरीका निकाला कृषि छात्रों ने

पंकज दाऊद @ बीजापुर। जिले में कार्य अनुभव का प्रशिक्षण लेने आए कृषि छात्रों ने एक ऐसा उपकरण 100 रूपए में ही तैयार किया है जो खेतों को नुकसान पहुंचाने वाले कीटों को पकड़ लेता है।

प्रशिक्षण अधिकारी एवं शस्य वैज्ञानिक अरविंद आयाम ने बताया कि ये उपकरण बाजार में डेढ़ से दो हजार रूपए में मिलता है। छात्रों ने इसे केवल सौ रूपए में तैयार किया है। इस यंत्र से खेतों में कीटनाशक के इस्तेमाल की जरूरत नहीं होती है। ये प्लास्टिक के डब्बे, बल्ब एवं वायर से तैयार किया गया है। इसे शाम 6 से 9 बजे तक जलाया जाता है।

यह भी पढ़ें :  नक्सली लीडर रमन्ना की मौत पर दक्षिण सब जोनल ब्यूरो गणेश उईके ने जारी किया प्रेस नोट, कही ये बात !

ग्रामीण कृषि कार्य अनुभव के तहत अंबागढ़ चौकी, दंतेवाड़ा एवं धमतरी से दो छात्राएं एवं तीन छात्र यहां आए हुए हैं। वे विभिन्न गांवों में जाकर किसानों से उनकी समस्या पूछकर उसका समाधान कर रहे हैं। इसके लिए छात्र कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिकों से सलाह ले रहे हैं।

बताया गया है कि मशरूम एवं ट्राइकोडर्मा उत्पादन की विधि भी किसानों को बताई जा रही है। छात्रों ने यहां अमरूद एवं नींबू का कलम करना, पौधों का ट्रीटमेंट एवं हाईटेक पाॅलीहाउस के अलावा नर्सरी तैयार करने का भी प्रशिक्षण लिया। छात्र लगातार फील्ड विजिट कर रहे हैं। वे तीन माह यहां रहेंगे। सभी छात्र इसी जिले के निवासी हैं।

यह भी पढ़ें :  मिंगाचल नदी में नाव पलटी, पिकनिक मनाने गई 2 लड़कियों की डूबने से मौत