DAV स्कूल में दाखिले की मारामारी ! सीट 90 और अर्जियां 260

1182
260 applications for admission to 90 seats in DAV School

DAV स्कूल में दाखिले की मारामारी ! सीट 90 और अर्जियां 260

पंकज दाऊद @ बीजापुर। यहां डीएवी मुख्यमंत्री पब्लिक स्कूल में हर साल दाखिले के लिए मारामारी मचती है और इसकी वजह है क्वालिटी एजुकेशन। यही वजह है कि इस बरस 90 सीटों के लिए 260 आवेदन आए थे।

स्कूल के प्राचार्य डी कामेश्वर राव के मुताबिक दाखिले में सबसे पहली प्राथमिकता नक्सल पीड़ित बच्चों को है। इसके बाद बीपीएल परिवार के बच्चों एवं अनाथों को प्राथमिकता दी गई है। फोर्स के जवानों के बच्चों एवं कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय के बच्चों के लिए भी सीटें आरक्षित हैं।

यह भी पढ़ें :  बस्तर संभाग के 4 जिलों में तेंदूपत्ता संग्राहकों को होगा नगद भुगतान, राज्य सरकार ने जारी किया आदेश

260 applications for admission to 90 seats in DAV School

प्राचार्य का कहना है कि शिक्षक समर्पण भाव से शिक्षा देते हैं और बेहतर रिजल्ट इसका आता है। उनका कहना है कि क्वालिटी एजुकेशन उनका पहला मकसद है। शिक्षा के अलावा दीगर क्रियाकलापों में भी बच्चों को शामिल किया जाता है। मसलन, खेल, संगीत, गार्डनिंग आदि।

प्रशासन की ओर से सभी सुविधाएं प्रदान की जाती हैं। भवन एवं दीगर सुविधाएं इनमें शामिल हैं। इनके अलावा कर्मचारियों का वेतन भी सरकार की ओर से उपलब्ध कराया जाता है। यहां रसायन, भौतिकी, वनस्पति शास्त्र, प्राणीशास्त्र, कंप्यूटर लैब आदि हैं। प्रयोगशालाएं उच्चस्तरीय हैं क्योंकि बच्चों को अच्छी शिक्षा देना लक्ष्य है।

यह भी पढ़ें :  स्कार्पियो अनियंत्रित होकर गड्ढे में जा गिरी, 3 की मौत 3 घायल... दंतेवाड़ा में 24 घंटे में एक और सड़क हादसा
260 applications for admission to 90 seats in DAV School
– डीएवी स्कूल एवं लैब।

ये है काम

प्रशासन की ओर से तो हर चीज मुहैया कराई जाती है लेकिन कुछ कमी रह गई तो इसके लिए पालक डोनेशन दे देते हैं। कांगो, तबला, गमले, कपड़े बर्तन इत्यादि भी कुछ पालकों ने दिए हैं।

एक पालक ने 18 हजार रूपए के गमले दिए हैं। एक अन्य पालक ने गार्डनिंग के लिए खेत की मिट्टी लाकर परिसर में रखवा दी। बताया गया है कि कुछ गरीब बच्चों को जरूरत होने पर प्राचार्य डी कामेशर राव अपने वेतन से उनकी मदद करते हैं।

यह भी पढ़ें :  अब माइक्रोबायोलाॅजिस्ट भी कोरोना की चपेट में ! 18 प्लस उम्र वर्ग के 1200 युवाओं को लगे टीके