जादू-टोने के शक में परिवार के 3 लोगों की हत्या, कोर्ट ने 37 आरोपियों को सुनाई उम्रकैद की सजा

45

जादू-टोने के शक में परिवार के 3 लोगों की हत्या, कोर्ट ने 37 आरोपियों को सुनाई उम्रकैद की सजा

नारायणपुर @ खबर बस्तर। छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में जादू-टोने के संदेह में 3 लोगों की हत्या मामले में न्यायालय ने बड़ा फैसला सुनाया है। 6 साल पहले घटित इस घटना में शामिल 37 ग्रामीणों को कोर्ट ने आजीवन कारावास और जुर्माने की सजा सुनाई है।

न्यायालय में प्रस्तुत अभियोजन के मुताबिक, 20 दिसंबर 2014 को नारायणपुर जिले के माहका गांव के घोटुल में ग्रामीणों की बैठक हुई थी। जिसमें गांव के घड़वाराम के घरवालों को भी बुलाया गया। बैठक में ग्रामीणों ने घड़वाराम के परिवार पर जादू-टोना करने का आरोप लगाते हुए इनकी जमकर मारपीट कर दी।

यह भी पढ़ें :  कालाबाजारी पर लगाम कसने छापेमार कार्रवाई, 7200 रूपए अर्थदण्ड वसूला गया

Read More: बस्तर की गोंडी भाषा को मिली अंतरराष्ट्रीय पहचान… Google ने तैयार किया यूनिकोड फॉन्ट, अब गोंडी में टाइप भी कर सकेंगे

ग्रामीणों द्वारा बांस व डंडों से की गई पिटाई में गंभीर रूप से घायल घड़वाराम की पत्नी दसरीबाई व बेटी रामवती बाई की मौत हो गई। घटना के बाद ग्रामीणों ने दोनों के शवों को जला दिया। वहीं घड़वाराम को अधमरा छोड़ दिया।

Read More:

 

इस वारदात के तीन दिन बाद मारपीट की घटना में जख्मी घड़वाराम की भी मौत हो गई थी। मामले की सूचना पर नारायणपुर थाने में आरोपियों के विरुद्ध विभिन्न धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी। मामले की सूचना पर नारायणपुर थाने में आरोपियों के विरुद्ध विभिन्न धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी।

यह भी पढ़ें :  त्यौहारों से पहले बड़ी राहत: दुकान खोलने व बंद करने के समय की पाबंदी हटी... अब इन शर्तो के साथ खुलेंगे दुकान

दो आरोपियों की मौत, 37 को सजा

एक ही परिवार के 3 लोगों की हत्या के इस मामले में सामूहिक रूप से कुल 39 आरोपी थे, जिनमें से दो आरोपियों पुनऊ कचलाम और मंगेल करंगा की मौत हो गई थी। वहीं 37 आरोपियों को अपर सत्र न्यायालय द्वारा उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। सभी आरोपियों को जेल भेज दिया गया है।

इनको मिली सजा

इस मामले में कोर्ट ने गाण्डोराम, घासीराम, रैजूराम, गंगाराम, दामू कचलाम, बासू कचलाम, चैतराम कचलाम, घसियाराम सलाम, रस्सू सलाम, भदरू करंगा, बुलकी करंगा, ढेलू करंगा, असाडू करंगा, सोनवा करंगा, सन्केर उईके, मंगडू करंगा, सोनू करंगा, दलु करंगा, सन्तु करंगा, सन्तेर करंगा, सिंगलुराम कुमेटी, कावे कुमेटी, दुकलू कुमेटी, रैनु कौडे, कोलू कौडो, सनउराम कौडो, घस्सूराम बुई, पितराम बुई, रैयसिंह बुई, दुलार सिंह, रतन सिंह, सुकमन, पीलू, प्रदीप, सुदरन, फागूराम व घस्सू को सजा सुनाई है।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…
यह भी पढ़ें :  आदिवासी क्षेत्रों में बनेंगे फलोद्यान, बटेर पालन भी होगा... ईटपाल में किसानों को दिया गया प्रशिक्षण


खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…