‘रोका छेका’ में फंसे डेढ़ सौ मवेशी ! पशुपालकों से लिया गया 8 हजार का जुर्माना

82

‘रोका छेका’ में फंसे डेढ़ सौ मवेशी ! पशुपालकों से लिया गया 8 हजार का जुर्माना

पंकज दाउद @ बीजापुर। राज्य सरकार की ‘रोका छेका’ मुहिम में यहां पालिका क्षेत्र में एक सप्ताह में ही करीब डेढ़ सौ मवेशियों को सड़क से पकड़कर गोठान में लाया गया और पशुपालकों से आठ हजार रूपए की राशि वसूल की गई।

– गोठान में लाए गए मवेशी

 

फसल को नुकसान से बचाने और सड़कों पर आवागमन सुचारू रखने के लिए ये मुहिम चलाई जाती है। करीब एक सप्ताह पहले पालिका क्षेत्र में ये अभियान शुरू किया गया है।

यह भी पढ़ें :  कोरोना मरीज ने AIIMS की बिल्डिंग से कूदकर की आत्महत्या, कारण अज्ञात

Read More:

 

सीएमओ पवन कुमार मेरिया ने बताया कि अब तक करीब डेढ़ सौ मवेशियों को पकड़ा गया। जुर्माना पटाने पर इन्हें छोड़ा जा रहा है। गाय और बैल के लिए ये जुर्माना ढाई सौ रूपए एक दिन का है जबकि भैंस के लिए ये जुर्माना तीन सौ रूपए का रखा गया है।

गाय के साथ बछडा होने की दशा में इसका जुर्माना नहीं लिया जाता है। इन्हें गोठान में रखा जा रहा है और नेपियर घास चारे के तौर पर दिया जा रहा है। सीएमओ ने पशुपालकों से अपील की है कि वे मवेशिओं को आवारा ना छोड़ें।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों ने की ग्रामीण की हत्या, पर्चे फेंक लगाया पुलिस मुखबिरी का आरोप

चार लाख का अर्थदण्ड

कोरोना की दूसरी लहर में पालिका क्षेत्र में कोविड नियमों की अनदेखी करने वालों से चार लाख रूपए से अधिक का अर्थदण्ड वसूला गया है। सीएमओ पवन मेरिया ने बताया कि मास्क नहीं पहनने और दुकानें 6 बजे के बाद खुली रखने पर जुर्माना वसूला जा रहा है। ये साझा मुहिम राजस्व, पुलिस विभाग और नगरपालिका चला रहे हैं।

‘पौनी पसारी’ की तैयारी

सीएमओ पवन मेरिया ने बताया कि ‘पौनी पसारी’ योजना के तहत बाजार में एक शेड बनाया जा रहा है। यहां बिजली, पानी, शौचालय और सामान रखने की व्यवस्था होगी। इस शेड में उन लोगों को स्थान दिया जाएगा जिनके पास दुकान नहीं हैं और वे छोटा कारोबार करते हैं। गरीबों को इसमें प्राथमिकता दी जाएगी।

यह भी पढ़ें :  7 CRPF जवानों की हत्या में शामिल नक्सली गिरफ्तार, मैलावाड़ा ब्लॉस्ट की घटना में था शामिल