आधार कार्ड बनाने ‘अंदर’ से भी मिल गई हरी झण्डी ! शिविरार्थियों के लिए प्रशासन लगा रहा खास कैम्प

53

आधार कार्ड बनाने ‘अंदर’ से भी मिल गई हरी झण्डी ! शिविरार्थियों के लिए प्रशासन लगा रहा खास कैम्प

पंकज दाउद @ बीजापुर। जिला प्रशासन की ओर से जुड़ूम के राहत शिविर में रह रहे लोगों को आधार कार्ड, राशन कार्ड समेत दीगर सुविधाएं देने एक दिनी शिविर का आयोजन किया जा रहा है। दबी जुबान में ये खबर है कि पहले आधार और राशन कार्ड नहीं बनाने का फरमान सुनाने वाले माओवादियों ने भी इसके लिए हरी झण्डी दे दी है।

जिला प्रशासन की ओर से हर राहत शिविर के आसपास कैम्प लगाए गए हैं। इस बारे में 27 जुलाई को जिला मुख्यालय में एक बैठक हुई थी। इसमें राहत शिविर के लोगों के लिए राशन कार्ड, जाॅब कार्ड, आधार कार्ड आयुष्मान कार्ड, प्रधानमंत्री आवास योजना, स्वरोजगार के लिए ऋण आदि सुविधाएं देने के लिए शिविर लगाने पर सहमति हुई।

यह भी पढ़ें :  10वीं व 12वीं के नतीजे घोषित, 10वीं में प्रज्ञा कश्यप ने 100 फीसदी अंक हासिल कर रचा इतिहास, 12वीं में मुंगेली के टिकेश बने टॉपर...यहां देखिए RESULT

Read More:

 

सभी शिविरों के लिए कैम्प की तारीख तय कर दी गई है। इसका अच्छा असर देखने को मिल रहा है। लोग सरकारी सुविधाएं पाने खुद ब खुद आने लगे हैं। राहत शिविर में रहने वाले कुछ लोग गांव चले गए और उसी परिवार के कुछ सदस्य कैम्पों में ही रह गए।

यह भी पढ़ें :  लाल लड़ाकों के गढ़ में पहली बार पहुंचे 2 जिलों के कलेक्टर, SP व तमाम बड़े अफसर... ग्रामीणों के साथ जमीन पर बैठकर सुनी समस्याएं‚ विकास व सुरक्षा का दिलाया भरोसा

गांवों में रहने वाले लोगों को नक्सलियों ने राशन और आधार कार्ड बनवाने से मना किया था और इस वजह से राशन और आधार कार्ड कई लोगों के नहीं बन पाए थे। हालिया दिनों में दबी जुबान से ये खबर भी सामने आई कि ‘अंदर’ वाले इसके लिए राजी हो गए हैं। ये शिविर 31 जुलाई से 14 अगस्त तक लगाए जाएंगे।

Read More:

‘वायरल ब्वॉय’ सहदेव को Indian Idol से आया फोन… सिंगिंग रियालिटी शो में दिखेगा बस्तर का टैलेंट! https://t.co/PkBkEJE9Io

 

यह भी पढ़ें :  मेडिकल टीम ने पीड़िया गांव पहुंच लिया जायजा, पखवाड़े भर में किसी ग्रामीण की मौत नहीं!

32 शिविर और 6944 शिविरार्थी

सलवा जुड़ूम यानि शांति अभियान के बाद बढ़ी हिंसा के चलते जिले में 2005 के बाद 32 शिविर बनाए गए। नक्सलियों के भय से गांवों से लोग यहां आकर रहने लगे। इनमें अभी 6944 लोग रहते हैं। प्रशासन की इस नई मुहिम से इन लोगों को फायदा होगा। बीजापुर ब्लाॅक में 11, भैरमगढ़ ब्लाॅक में 17, भोपालपटनम में एक और उसूर ब्लाॅक में 3 शिविर हैं।