पामेड़ में उजियारा लाने तेलंगाना से करार… IG सुंदरराज ने कहा, अंदरूनी इलाकों में फोर्स की पैठ है तरक्की का पैरामीटर

71
Agreement with Telangana to bring light to Pamed

पामेड़ में उजियारा लाने तेलंगाना से करार… IG सुंदरराज ने कहा, अंदरूनी इलाकों में फोर्स की पैठ है तरक्की का पैरामीटर

पंकज दाऊद @ बीजापुर। बस्तर रेंज के आईजी पी सुंदरराज ने कहा है कि अंदरूनी इलाकों में लोगों का भरोसा हौले-हौले जीतने की कोशिश रंग लाने लगी है और यही जिले की तरक्की का पैरामीटर भी है। उन्होंने बताया कि पामेड़ में बिजली लाने तेलंगाना से करार की प्रक्रिया अभी चल रही है।

यहां पत्रकारों से चर्चा में बस्तर आईजी पी सुंदरराज ने कहा कि हम विकास, विश्वास एवं सुरक्षा को लेकर काम कर रहे हैं और इसमें प्रशासन ही नहीं, बल्कि अर्धसैनिक बलों के साथ अच्छा तालमेल है। वे हर कदम पर साथ दे रहे हैं।

Read More: 

 

यह भी पढ़ें :  8 लाख के इनामी नक्सली कट्टी मोहन राव की हार्ट अटैक से मौत... नक्सलियों ने प्रेस नोट जारी कर दी जानकारी

आईजी ने कहा कि हर साल जमीनी हालत की रणनीतिक समीक्षा होती है और इसमें जमीनी हकीकत पर गौर किया जाता है। ये भी देखा जाता है कि अभी चुनौतियां क्या हैं। अभी गौर किया गया है कि जहां तक लोगों का भरोसा जीत लेने की बात है, इसमें पाॅजीटिव रिजल्ट आए हैं।

आईजी के मुताबिक, पहले जहां फोर्स नहीं जा सकती थी, अब वहां हौले-हौले फोर्स आगे बढ़ रही है। पहले कभी कभार फोर्स से जनता अंसतुष्ट थी, अब ऐसी कोई शिकायत नहीं आ रही है। इसमें सीआरपीएफ, कोबरा, सीएएफ, डीएफ एवं डीआरजी का बड़ा योगदान है।

Read More: 

 

आईजी सुंदरराज ने कहा कि लोगों का विश्वास जीते बिना विकास के पथ पर आगे नहीं बढ़ा जा सकता है। हमें लड़ाई जनता के लिए लड़नी है। पामेड़ सरीखे जटिल इलाके में सड़क बन गई है और अब वहां बिजली लाने तेलंगाना से अनुबंध किया जा रहा है।

Agreement with Telangana to bring light to Pamed

पत्रवार्ता में कलेक्टर रितेश अग्रवाल, सीआरपीएफ डीआईजी कोमल सिंह, एसपी कमलोचन कश्यप, सीआरपीएफ के कमाण्डेंट पी कुजूर, यादवेन्द्र सिंह यादव, एके चौधरी, एके भट्टाचार्य, प्रेम मकन एवं दीगर आला अफसर मौजूद थे।

यह भी पढ़ें :  अब ई-पास के बिना कहीं भी कर सकेंगे आवागमन... राज्य सरकार ने ई-पास की अनिवार्यता खत्म की, आदेश जारी

लोगों के लिए है अधोरचना

आईजी पी सुंदरराज ने साफ किया कि अंदरूनी इलाकों में सड़क, पुल, बिजली, पानी और हॅास्पिटल समेत दीगर संरचनाएं और सुविधाएं फोर्स नहीं, अपितु लोगों के लिए है और उनकी मांग पर ही अधोरचना विकसित की जा रही है। आवापल्ली-उसूर, इलमिड़ी, फरसेगढ़-कुटरू एवं सड़कों के कई प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है।

Read More: 

 

यह भी पढ़ें :  सुकमा मुठभेड़ Update: एनकाउंटर में मारा गया 8 लाख का इनामी डिवीजन एक्शन टीम कमांडर, शव समेत हथियार बरामद

अभी पामेड़ के लोगों को चेरला के रास्ते फिर अपने ही जिले में आना पड़ता है। लोगों की मांग पर उसूर की सड़क पर भी काम होगा। इधर, तर्रेम तक सड़क बन गई है। थाने और चैकियों को समग्र विकास के केन्द्र के तौर पर विकसित किया जाएगा। खेती और दीगर रोजगार के जरिए युवाओं को काम मिलेगा।

शहादत के बाद भी पीछे नहीं हटी फोर्स

आईजी ने कहा कि सड़क निर्माण के दौरान सुऱक्षा में लगे कई जवानों ने शहादत पाई। इसमें कई जवान घायल भी हुए लेकिन फोर्स पीछे नहीं हटी। अब तो अंदरूनी इलाकों के लोग भी तरक्की की बात को लेकर आने लगे हैं और ये अच्छा इशारा है।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…

ख़बर बस्तर के व्हॉट्सएप्प ग्रुप में जुड़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए….