एनकाउंटर में मारे गए 6 नक्सलियों के शव बरामद… 4 महिला व 2 पुरुष माओवादी हुए मुड़भेड़ में ढ़ेर, रॉकेट लांचर समेत हथियार भी बरामद

187

एनकाउंटर में मारे गए 6 नक्सलियों के शव बरामद… 4 महिला व 2 पुरुष माओवादी हुए मुड़भेड़ में ढ़ेर, रॉकेट लांचर समेत हथियार भी बरामद

के. शंकर @ सुकमा। साल 2021 जाते-जाते नक्सली संगठन को एक और बड़ा झटका दे गया। इस साल कोरोना ने संगठन में बड़ी तबाही मचाई। कई बड़े लीडर मारे गए और कईयों ने सरेंडर कर दिया।

इधर, सोमवार को छत्तीसगढ़-तेलंगाना बॉर्डर पर हुए बड़े एनकाउंटर में माओवादियों को बड़ा नुकसान उठाना पड़ा। इस मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने LOS कमांडर सहित 6 नक्सलियों को मार गिराया। मुठभेड़ स्थल से मारे गए नक्सलियों के शव बरामद कर लिए गए हैं और इन्हें सुकमा मुख्यालय लाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें :  छत्तीसगढ़: ​रिटायर्ड IFS अफसर की कोरोना से हुई मौत, एम्स में ली अंतिम सांस...दो दिन पहले ही कराया गया था भर्ती

मुठभेड़ में मारे गए नक्सलियों में 4 महिलाएं और 2 पुरुष शामिल हैं। नक्सलियों के शवों के पास से जवानों द्वारा हथियार और अन्य सामान बरामद किए हैं। मौके से 4 रॉकेट लांचर, 2 थ्री नॉट थ्री राइफल, 3 भरमार सहित भारी मात्रा में नक्सल सामाग्री बरामद की गई है।

नक्सलियों के खिलाफ ये बड़ा आपरेशन तेलंगाना की भद्राद्री कोत्तागुड़ेम पुलिस ने लॉन्च किया। बताया गया है कि छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले और तेलंगाना के चेरला इलाके के सरहदी इलाके में नक्सलियों के जमावड़े की खूफिया जानकारी तेलंगाना पुलिस को मिली थी।

यह भी पढ़ें :  सिलगेर में स्थापित नए कैम्प में गोलीबारी, 3 ग्रामीणों की मौत की खबर... बस्तर IG का दावा- फायरिंग में मारे गए नक्सली

इस इनपुट के बाद कोत्तागुड़ेम जिले के SP सुनील दत्त की अगुवाई में रणनीति तैयार की गई और नक्सलियों के खिलाफ बड़ा ऑपरेशन लॉन्च किया गया। इसी कड़ी में रविवार की रात को तेलांगना की ग्रे-हाउंड्स फ़ोर्स, सीआरपीएफ 141 बटालियन, कोत्तागुड़ेम पुलिस और किस्टारम डीआरजी की संयुक्त पार्टी सर्चिंग आपरेशन में निकली थी।

इसी दौरान सोमवार सुबह करीब 7 बजे पेसालापाडू के जंगल मे नक्सलियों के साथ जवानों की जबरदस्त मुड़भेड़ हुई, जिसमें 6 नक्सली मारे गए। सर्चिंग के दौरान मौके से 6 नक्सलियों के शव बरामद हुए हैं। जवान मारे गए नक्सलियों के शव और अन्य सामान ट्रैक्टर में लेकर सुकमा लौट रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  जनप्रतिनिधि हो तो ऐसा... एक फोन आया तो आधी रात पहुंच गए बाढ़ पीड़ितों की मदद करने... खुद सामान उठाकर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया