गोधन से बने ‘ब्रीफकेस’ में बजट लेकर पहुंचे CM भूपेश बघेल, जानिए क्या है इसकी खासियत!

1069

गोधन से बने ‘ब्रीफकेस’ में बजट लेकर पहुंचे CM भूपेश बघेल, जानिए क्या है इसकी खासियत!

रायपुर @ खबर बस्तर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को वित्तीय वर्ष 2022-23 का बजट पेश किया। उन्होंने अपने कार्यकाल का चौथा बजट सदन के पटल पर रखा।

जिस ब्रीफकेस में छत्तीसगढ़ का बजट लेकर सीएम बघेल विधानसभा पहुंचे थे वो कोई आम ब्रीफकेस नहीं, बल्कि इसे राजधानी रायपुर के एक गौठान में महिला स्व सहायता समूह की महिलाओं द्वारा 10 दिन की कड़ी मेहनत से बनाया गया है।

यह भी पढ़ें :  कांकेर से अच्छी खबर: स्वाथ्यकर्मी समेत 3 मरीजों ने जीती कोरोना से जंग... ठीक होने के बाद अस्पताल से किया गया डिस्चार्ज

 

छत्तीसगढ़ का बजट जिस ब्रीफकेस में पेश किया गया, उसे नगर पालिक निगम रायपुर के गोकुल धाम गोठान में कार्य करने वाली ‘एक पहल’ महिला स्व सहायता समूह की दीदी नोमिन पाल द्वारा गोबर एवं अन्य उत्पादों के इस्तेमाल से निर्माण किया गया है।

ऐसे तैयार हुआ ब्रीफकेस

इस ब्रीफकेस को गोबर, चूना पावडर, मैदा लकड़ी एवं ग्वार गम के मिक्चर को परत दर परत लगाकर 10 दिनों की कड़ी मेहनत से समूह की महिलाओं ने तैयार किया है। इसी तकनीक से समूह द्वारा गोबर के खड़ाव (एक तरह की चप्पल) भी बनाई जाती है। ब्रीफकेस में लगे हैंडल और कार्नर बस्तर संभाग के कोंडागांव के समूह द्वारा निर्मित बस्तर आर्ट कारीगर ने तैयार किया है।

यह भी पढ़ें :  गीदम में कोरोना से पहली मौत, इलाज के दौरान बुजुर्ग महिला ने तोड़ा दम

दरअसल, छत्तीसगढ़ में गोबर को मां लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है। छत्तीसगढ़ के तीज त्यौहारों में गोबर से घरों को लीपने की परंपरा रही है। इसी से प्रेरणा लेते हुए स्व सहायता समूद की दीदियों द्वारा गोमय ब्रीफकेस का निर्माण किया गया है, ताकि सीएम के हाथों इस ब्रीफकेस से छत्तीसगढ़ के हर घर में बजट रूपी लक्ष्मी का प्रवेश हो और प्रदेश का हर नागरिक आर्थिक रूप से सशक्त हो सके।

यह भी पढ़ें :  बीजापुर में नक्सली वारदात: बंधक जुड़ूम कार्यकर्ता की हत्या, स्माॅल एक्शन टीम ने किया था अगवा

बता दें कि पूर्व बजट में मुख्यमंत्री बघेल द्वारा कोसा का बैग उपयोग किया गया था, जिससे प्रेरणा लेकर समूह द्वारा ऐसा ब्रीफकेस तैयार करने की जानकारी अधिकारियों को प्रदान की गई। गोमय वसते लक्ष्मी की भावना से दीदियों द्वारा बजट रूपी लक्ष्मी के हर घर में पहुंचने की कामना की गई है।