ठेकेदार और साइट इंचार्ज हिट लिस्ट में, नक्सली बोले- ‘बस्तर में काम बंद नहीं किया, तो फोटो पर हार दिखेगा’

2254

ठेकेदार और साइट इंचार्ज हिट लिस्ट में, नक्सली बोले- ‘बस्तर में काम बंद नहीं किया, तो फोटो पर हार दिखेगा’

पंकज दाऊद @ बीजापुर। इंद्रावती पर बेदरे में बन रहे पुल के ठेकेदार अंकित गुप्ता और साइट इंचार्ज अमजद खान नक्सलियों की हिट लिस्ट में हैं। नक्सलियों ने सीधे चेतावनी दी है कि बस्तर में काम बंद नहीं किया तो उनकी फोटो पर हार टंगा दिखेगा।

नक्सलियों ने अपहरण के दरमियान इंजीनियर अशोक पवार और राजमिस्त्री आनंद यादव के माध्यम से से ये खबर भिजवाई है। बताया गया है कि ठेकेदार और साइट इंचार्ज की फोटो पहले से ही नक्सलियों के पास मौजूद थी।

यह भी पढ़ें :  ट्रेन को डिरेल करने नक्सलियों ने कर रखी थी पूरी प्लानिंग, चालक की सूझबूझ से टला हादसा, बाल-बाल बचे मुसाफिर

अपहरण के बाद दोनों की फोटो नक्सलियों ने उन्हें दिखाई और कहा कि सिर्फ बस्तर में ही ये काम क्यों कर रहे हैं। और कहीं काम क्यों नहीं करते हैं। नक्सलियों को पता है कि अंकित गुप्ता कहां-कहां काम करवा रहे हैं और वे किस होटल में रूकते हैं।

– नक्सलियों के कब्जे से छूटने के बाद इंजीनियर और राजमिस्त्री।

राजनांदगांव के साइट इंजार्च अमजद खान की हिस्ट्री भी नक्सलियों ने पहले से खंगाली है। मसलन, उनके पास कितनी गाड़ियां हैं और प्राॅपर्टी कितनी है। माओवादियों की खुफियागिरी यहीं खत्म नहीं होती है। नक्सलियों ने अशोक पवार और आनंद यादव से ये भी सवाल किया कि वे कितने दिनों से यहां काम कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  बेटी को पैतृक संपत्ति में हक का सुप्रीम कोर्ट का फैसला हिन्दू लाॅ के हिसाब से... आदिवासी नेता बोले— पारंपरिक प्रथा में ऐसा नहीं

आनंद यादव तो एक सप्ताह से काम कर रहे हैं। जब अशोक पवार ने बताया कि वे दो माह से काम कर रहे हैं, तो नक्सलियों ने उन्हें ये भी बताया कि वे नैमेड़ में किस तारीख को और किस गाड़ी से आए थे।

– समाजसेविका एवं आदिवासी नेत्री भी मिलने पहुंची।

नक्सलियों के छोड़े जाने के बाद कुटरू में इंजीनियर अशोक पवार और राजमिस्त्री आनंद यादव का मेडिकल चेकअप किया गया। ये रूटिन प्रक्रिया है। दोनों से मिलने समाजसेविका एवं आदिवासी नेत्री सोनी सोड़ी भी आई हुई थीं।

यह भी पढ़ें :  CM के दौरे से कोंटा क्षेत्र के लोगों को मिली कई सौगातें, मुख्यमंत्री ने की ये बड़ी घोषणाएं

अप्रैल तक पिलर खड़ा करने का टारगेट था

बताया गया है कि अप्रैल 2022 तक इंद्रावती में पुल के पिलर खड़े किए जाने का लक्ष्य था। अब इसकी गति मंद पड़ सकती है। इसकी लागत चालीस करोड़ रूपए है।

– पुल निर्माण स्थल

इसे मित्तल कंपनी ने ठेकेदार अंकित गुप्ता को ठेके पर दिया है। 997 मीटर इस लंबे पुल के किनारे फोर्स का कैम्प भी है ताकि सुरक्षा दी जा सके। ये पुल सीधे माड़ को बीजापुर से जोड़ेगा।