जिला अस्पताल में पदस्थ डॉक्टर की कोरोना से मौत, रिपोर्ट में खुलासा… होम क्वारेंटाइन पर थे, सरकारी आवास में मिला था शव

43
- प्रतीकात्मक तस्वीर

जिला अस्पताल में पदस्थ डॉक्टर की कोरोना से मौत, रिपोर्ट में खुलासा… होम क्वारेंटाइन पर थे, सरकारी आवास में मिला था शव

पंकज दाऊद @ बीजापुर। कोविड 19 हाॅस्पिटल में सेवा दे चुके एक युवा डाॅक्टर की मौत कोरोना से ही हुई है। इसकी पुष्टि करने वाली रिपोर्ट बुधवार को आ जाने से इस बात का खुलासा हुआ।

– प्रतीकात्मक तस्वीर

सीएमएचओ डाॅ बीआर पुजारी ने कोरोना से उनकी मौत की पुष्टि कर दी है। बताया गया है कि कोविड हाॅस्पिटल में सेवा देने के बाद उन्हें 14 दिनों के होम क्वारेंटाइन पर रखा गया था। वे हाॅस्पिटल के पास ही ट्रांसिट हाॅस्टल में रहते थे।

यह भी पढ़ें :  ट्रांसफर ब्रेकिग: 6 नगरीय निकायों के बदले गए CMO, 63 अधिकारी-कर्मचारियों का तबादला

Read More:

 

बताया गया है कि डॉक्टर की मृत्यु सोमवार को हो गई थी। उनके फोन अटेण्ड नहीं करने पर मंगलवार की शाम जब दरवाजा खोला गया, तो वे मृत पाए गए। कोरोना की आशंका के चलते मंगलवार को ही सेंपल मेडिकल काॅलेज डिमरापाल भेजा गया था।

यह भी पढ़ें :  CAF कैम्प में खूनी खेल, आपसी विवाद में साथी जवानों पर चलाई गोलियां... फायरिंग में 2 की मौत, एक घायल

बुधवार को आई रिपोर्ट में डॉक्टर के संक्रमित होने की पुष्टि हुई। बताया गया है कि वे खरसिया इलाके के रहने वाले थे और दो माह पहले की उनका विवाह हुआ था। जिले में कोरोना के चलते डॉक्टर की मौत के बाद आमजनों में भी इस महामारी को लेकर दहशत फैल गई है।

Read More:

अब सख्ती की जरूरत

यह भी पढ़ें :  दंतेवाड़ा से राहत की खबर: संदिग्ध मरीज में नही पाया गया कोरोना वायरस, जांच रिपोर्ट आई निगेटिव

इधर, जागरूक लोगों का कहना है कि कोरोना जिस गति से बीजापुर जिले में पैर पसार रहा है, ये बड़े खतरे की घंटी है। कोरोना पाॅजीटिव केस में निरंतर बढ़ोतरी हो रही है। प्रशासन को इसके लिए सख्त कदम उठाने की जरूरत है। वहीं आम लोगों को भी सामाजिक दूरी के नियमों का सख्ती से पालन करना होगा, तभी इसके संक्रमण से बचा जा सकता है।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…