बस्तर में बाहर से आने वाले हर शख्स की होगी कोरोना जांच… छुट्‌टी से लौटे जवान टेस्टिंग और क्वारेंटाइन के बाद भेजे जाएंगे कैंपों में

55

बस्तर में बाहर से आने वाले हर शख्स की होगी कोरोना जांच… छुट्‌टी से लौटे जवान टेस्टिंग और क्वारेंटाइन के बाद भेजे जाएंगे कैंपों में

रायपुर @ खबर बस्तर। बस्तर संभाग में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए प्रदेश की भूपेश बघेल सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। अब बस्तर में बाहरी लोगों को कोरोना जांच कराए बिना प्रवेश नहीं मिलेगा। वहीं पैरामिलिट्री फोर्सेस के जवानों को भी छुट्टी से लौटने के बाद आवश्यक रूप से टेस्ट कराना होगा।

 

उक्ताशय के निर्देश सीएम भूपेश बघेल ने बस्तर संभाग के 7 जिलों में कोरोना की रोकथाम के लिए आयोजित वर्चुअल बैठक में दिए। मुख्यमंत्री ने बस्तर संभाग में कोरोना संक्रमण की वर्तमान स्थिति की समीक्षा करते कहा कि पिछली बार कोरोना संक्रमण को रोकने में शासन-प्रशासन सहित सबके सहयोग से अच्छी सफलता मिली थी।

यह भी पढ़ें :  पटवारी भर्ती परीक्षा की तारीख बदली, व्यापमं ने किया नई तिथि का ऐलान

इस बार भी हम सभी बस्तर संभाग में कोरोना संक्रमण की दर को पिछली बार की तरह शून्य प्रतिशत तक लाने का प्रयास करें। सीएम ने कहा कि बस्तर में संक्रमण न फैले इसके लिए यह जरूरी है कि बाहर से आने वाला हर व्यक्ति बिना टेस्टिंग के न तो गांव में घुसे और न ही शहर में प्रवेश करे।

Read More:

बाहर से आने वालों की एयरपोर्ट, रेल्वे स्टेशन, बस स्टैण्ड, अंतर्राज्यीय सीमाओं के एन्ट्री पाइंट पर ही टेस्टिंग सुनिश्चित कर ली जाए। हमारा फोकस टेस्टिंग के साथ-साथ मरीजों के इलाज, वैक्सीनेशन, संक्रमित व्यक्तियों की कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग तथा सघन जांच पर होना चाहिए। कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग से संक्रमण को रोकने में काफी हद तक मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें :  CM भूपेश बघेल ने अमिताभ बच्चन और रतन टाटा को पछाड़ा, देश के 100 शक्तिशाली लोगों में हासिल किया 54वां स्थान

जवानों को भी टेस्टिंग से गुजरना होगा

सीएम बघेल ने कहा कि छुट्टी से लौटने वाले सीआरपीएफ और पैरामिलिट्री फोर्स के जवानों की टेस्टिंग एन्ट्री पाइंट पर की जाए। उन्हें क्वारेंटाइन और आइसोलेशन में रखने के बाद ही कैम्पों में जाने की अनुमति दी जाए। उन्होंने कहा कि पिछली बार इसी वजह से बस्तर में संक्रमण बढ़ा था।

मुख्यमंत्री भपेश ने कहा कि बाहरी राज्यों से लौटने वाले जवानों की जानकारी बस्तर आईजी रखें और ऐसे जवानों को लाने के लिए अलग वाहन की व्यवस्था की जाएं। सार्वजनिक परिवहन के साधनों से जवान वापस न लौटें। वहीं खदान क्षेत्रों में ट्रकों में आने वाले ड्राइवरों और क्लीनरों की जांच की जाए और उन्हें मजदूरों से अलग रखने की व्यवस्था की जाए।

ऑक्सीजन बेड, ICU बेड और वेंटिलेटर की समीक्षा

यह भी पढ़ें :  सांसद का PSO निकला कोरोना पॉजिटिव, मचा हड़कंप! टेस्ट कराने के बाद भी MP के साथ घूमता रहा... अब सांसद का होगा कोरोना टेस्ट, होंगे आइसोलेट

मुख्यमंत्री बघेल ने बैठक में बस्तर के सभी 7 जिलों में ऑक्सीजन बेड, आईसीयू बेड, वेंटिलेटर वाले बेड की उपलब्धता, ऑक्सीजन की सप्लाई चैन, ऑक्सीजन सिलेंडरों की उपलब्धता और रोटेशन, मेडिकल स्टाफ की उपलब्धता, रेमडेसिविर और अन्य आवश्यक दवाइयों की उपलब्धता तथा सीएसआर मद, औद्योगिक क्षेत्र और सामाजिक संगठनों के सहयोग से किये जा रहे कार्यों की समीक्षा की।

Read More:

बैठक में प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, मुख्य सचिव अमिताभ जैन, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य रेणु जी. पिल्ले, अपर मुुख्य सचिव गृह सुब्रत साहू, मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी, बस्तर संभाग के कमिश्नर, आईजी समेत सभी 7 जिलों के जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक शामिल हुए।