ओडिशा-आंध्र सीमावर्ती क्षेत्र से विस्फोटक सामग्री बरामद, नक्सलियों द्वारा डंप किया गया था मौत का सामान

106

ओडिशा-आंध्र सीमावर्ती क्षेत्र से विस्फोटक सामग्री बरामद, नक्सलियों द्वारा डंप किया गया था मौत का सामान

के. शंकर @ सुकमा। छत्तीसगढ़ की सीमा से लगे ओड़िशा के मलकानगिरी पुलिस ने नक्सल आपरेशन में बड़ी सफलता हासिल की है। सुरक्षा बलों ने नक्सलियों द्वारा आंध्र-ओडिशा सीमा क्षेत्र के जंगलों में डंप किए गए विस्फोटकों को बरामद कर माओवादियों के नापाक मंसूबों को ध्वस्त कर दिया।

जानकारी के मुताबिक, दिनांक 07.12.2021 को ओडिशा-आंध्र प्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्र के अंतर्गत एसओजी, डीवीएफ और बीएसएफ की ज्वाइंट पार्टी द्वारा एक संयुक्त नक्सल विरोधी अभियान शुरू किया गया था। इसी सिलसिले में जवान सीमावर्ती इलाके के जंगलों में सर्चिंग पर निकले थे।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों ने ब्रिटिश PM के भारत दौरे का किया विरोध... किसान आंदोलन के समर्थन में गणतंत्र दिवस समारोहों के बहिष्कार का ऐलान

दरअसल, घानाबेड़ा में एक नए बीएसएफ सीओबी की स्थापना के संबंध में जोडाम्बो थाना क्षेत्र की सीमा के तहत स्वाभिमान अंचल का विस्तार जिसमें एक खुफिया इनपुट था। नदमेंजेरी गांव के वन क्षेत्र के पास एक माओवादियों द्वारा विस्फोटक व अन्य सामग्री डंप किए जाने की भी सूचना पुलिस को मिली थी।

इस सूचना पर पुलिस पार्टी ने उस क्षेत्र की सघन तलाशी लेते हुए जोदाम्बो के स्वाभिमान अंचल के जंत्री जीपी ग्राम नदमेंजेरी के वन क्षेत्र के पास एक माओवादी डंप बरामद किया। मौके से भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद किया गया है।

यह भी पढ़ें :  पूर्व मंत्री पर काग्रेस का पलटवार, कहा 'सियासी रोटी सेंकने में लगे'

ओडिशा की मलकानगिरी पुलिस को संदेह है कि इन विस्फोटकों का नक्सलियों द्वारा इस्तेमाल सुरक्षा बलों और नागरिकों को नुकसान पहुंचाने के लिया जा सकता था। संभवत: इसी वजह से घने जंगलों के बीच इसे डंप किया गया था लेकिन फोर्स की सतर्कता से नक्सलियों को मुंह की खानी पड़ी।

ये विस्फोटक बरामद

मौके से जवानों ने 5 नग आईईडी, कोडेक्स वायर, डेटोनेटर, फ्लैश कैमरा, बैटरी, इलेक्ट्रिक वायर व नक्सली साहित्य आदि बरामद किया है। पुलिस का अनुमान है कि उक्त विस्फोटक AOBSZC के माओवादी कैडर के हैं और इन्हें निर्दोष नागरिकों और सुरक्षा बलों के खिलाफ इस्तेमाल करने का इरादा था। पुलिस द्वारा इस इलाके में तलाशी और सर्च अभियान लगातार जारी है।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों ने पुलिस का मुखबिर बताकर शिक्षादूत को मार डाला, पहले किया अगवा फिर कर दी हत्या