पूर्व मंत्री महेश गागड़ा का आरोप: भूपेश सरकार में सुनने वाला कोई नहीं, दबाव में खबरें भी हो रही सेंसर

89
Former minister Mahesh Gagda accused Bhupesh government

पूर्व मंत्री महेश गागड़ा का आरोप: भूपेश सरकार में सुनने वाला कोई नहीं, दबाव में खबरें भी हो रही सेंसर

पंकज दाऊद @ बीजापुर। पूर्व वन मंत्री महेश गागड़ा ने कांग्रेस को घेरते हुए कहा कि भूपेश सरकार में नीचे से उपर तक कोई सुनने वाला नहीं है और अब तो दबाव में खबरें भी सेंसर होने लगी हैं जबकि रमन सरकार में पत्रकारों को आजादी थी।

Former minister Mahesh Gagda accused Bhupesh government

यहां भाजपा कार्यालय में पत्रकारों से चर्चा के दौरान पूर्व वन मंत्री महेश गागड़ा ने भूपेश सरकार पर जमकर बरसते कहा कि अफसरों से भूपेश सरकार कांग्रेस का काम करवा रही है। कांग्रेस भवन के लिए कलेक्टर जमीन की तलाश कर रहे हैं।

गागड़ा का आरोप है कि शिक्षा विभाग खुद एजेंसी बनकर काम कर रहा है जबकि शासन से साफ निर्देश हैं कि शिक्षा विभाग एजेंसी नहीं बनेगा। लाइवलीहुड काॅलेज का भवन 32 लाख रूपए में बना था और शिक्षा विभाग 63 लाख रूपए से इसकी मरम्मत करवा रहा है। काम शुरू होने के बाद प्रशासनिक स्वीकृति दी गई है।

यह भी पढ़ें :  इस पोटाकेबिन में छात्र सोते हैं पलंग पर... और नींद खुली तो फर्श पर ! पढ़िए ये खबर...

Read More:

 

प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना एवं इंद्रावती टाइगर रिजर्व चारागाह बन गए हैं। एक टाइम फ्रेम में वन विभाग को काम कर राशि खर्च करना पड़ता है और ऐसा नहीं होने पर इसे रिवाइज किया जाता है लेकिन यहां ऐसा नहीं हो रहा है।

पूर्व मंत्री ने कहा कि जिले में सार्वजनिक वितरण प्रणाली चरमरा रही है और वक्त पर चावल गांवों तक नहीं पहुंच पा रहा है। केन्द से आने वाले चावल का दुरूपयोग हो रहा है। भाजपा काल में जिले में मिंगाचल, रामपुरम, गिलगिच्चा, बण्डलवागु समेत कई नदियों पर पुल बने। अभी मिंगाचल में पुल नहीं होता तो जिला मुख्यालय पूरी तरह कट जाता।

यह भी पढ़ें :  कोंडागांव के पास दर्दनाक सड़क हादसा: एक ही परिवार के 4 लोगों की मौत, एक जख्मी

रेत के नाम पर बड़ा घोटाला

गागड़ा ने कहा कि रेत के नाम पर बड़ा घोटाला हो रहा है और भविष्य में भाजपा इसे लेकर बड़ा आंदोलन करेगी। 800 रूपए में मिलने वाली बालू अब तीन हजार रूपए में मिल रही है। ठेकेदारों के पास इसकी डंपिंग के लिए ना तो माइनिंग और ना ही पर्यावरण संरक्षण मण्डल की अनुमति है। इस मामले में खनिज विभाग आंखें मूंदे हुए है।

Read More:

 

नगरीय निकायों में बड़े पैमाने पर निर्माण कार्यों में भ्रष्टाचार हो रहा है। रमन सरकार के वक्त जिले में खेल अकादमी की स्थापना इस मकसद को लेकर हुई थी कि जिले के बच्चे खेल क्षेत्र में आगे आएं लेकिन अभी सारे क्रियाकलाप ठप पड़े हैं।

यह भी पढ़ें :  तीन दिनों तक फोर्स ने किया पीछा और मार गिराए 3 माओवादी… तेलंगाना से ग्रे हाउण्ड के जवान छग पहुंचे, तीनों शव बरामद

कोरोना वारियर्स की हुई उपेक्षा

पूर्व मंत्री गागड़ा ने आरोप लगाते कहा कि जश्ने आजादी पर कुछ कोरोना वारियर्स को सम्मानित किया गया जबकि शहरी व अंदरूनी इलाकों में काम करने वाले कोरोना वारियर्स, पटवारी, मीडियाकर्मियों एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की उपेक्षा की गई। पूर्व मंत्री ने कहा कि भाजपा ऐसे लोगों का सम्मान करेगी।

Read More:

 

पत्रवार्ता के दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीनिवास राव मुदलियार, कोषाध्यक्ष संजू लुंकड़, महामंत्री गोपाल सिंह पवार, मण्डल अध्यक्ष भुवन सिंह चौहान, पार्षद नंदकिशोर राना, संजय गुप्ता, युवा मोर्चा के लक्ष्मैया जागर, भोपालपटनम मण्डल महामंत्री बिलाल खान एवं अन्य मौजूद थे।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…