लाॅकडाउनः सड़ गई चार लाख की सब्जी‚ गांवों के आसपास होने लगी बिक्री

44

लाॅकडाउनः सड़ गई चार लाख की सब्जी‚ गांवों के आसपास होने लगी बिक्री

पंकज दाऊद @ बीजापुर। जिले में लाॅकडाऊन लगने से जगदलपुर की ओर से थोक व्यापारियों की लाई करीब चार लाख रूपए की सब्जी सड़ गई। सोशल डिस्टेंसिंग मेन्टेन नहीं होने के कारण प्रशासन ने सब्जी मण्डी को भी बंद रखने का फरमान सुनाया है और इससे थोक व्यापारियों को बड़ी चपत लगी है।

– सड़क किनारे सब्जी बेचते गांव के किसान

जिले में 16 से 26 अप्रैल का लाॅकडाऊन 15 अप्रैल को घोषित किया गया था। इस बीच थोक व्यापारी जगदलपुर, कोलचूर एवं अन्य स्थानों से लेकर आए थे। यहां सब्जी के चार थोक व्यापारी हैं। ये सभी जगदलपुर से सब्जी लेकर आते हैं।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों ने छुपकर किया वार, जवानों की दिलेरी से मारे गए माओवादी: फ़ारूख अली

Read More:

इनमें से एक बलराम जायसवाल ने बताया कि जगदलपुर से लौकी, बैंगन, भिण्डी, फूलगोभी, पत्तागोभी, शिमला मिर्च, टमाटर, आलू, प्याज, अदरक, लहसन, मिर्च आदि की आवक होती है। रोजाना आठ से 9 पिकअप सब्जी स्थानीय मार्केट में आती है। यहां से भोपालपटनम, आवापल्ली और अन्य स्थानों की ओर सब्जी सप्लाई की जाती है।

यह भी पढ़ें :  कोरोना के डर से हॉस्पिटल से गायब हुए मरीज ! OPD में भी रोगियों की संख्या में चौंकाने वाली कमी... मेडिकल टीम ने शुरू किया डोर टू डोर सर्वे

मार्केट लाॅक डाऊन में बंद हो जाने से काफी नुकसान हुआ। पहले के लाॅकडाउन में सब्जी मार्केट को छूट मिली थी लेकिन इस पर सख्ती बरती गई है। बंद के चलते आलू के दाम में बढ़ोतरी हुई है।

छोटे किसानों का दर्द

अपनी बाड़ी में सब्जी लगाकर बेचने वाले किसान सबसे ज्यादा परेशान हुए। आम दिनों में वे सब्जी को मार्केट में लाकर बेच देते थे और यहां से जरूरी सामान ले जाते थे। मार्केट बंद होने से उन्हें कैश की दिक्कत आने लगी है। ऐसे लोग अपने गांव के आसपास सड़क किनारे सब्जी बेचने लगे हैं ताकि सब्जी खेत में खराब ना हो और उनकी आमदनी बनी रहे।

यह भी पढ़ें :  'कृषि समृद्धि अवॉर्ड' से नवाजे गए जैविक खेती करने वाले 4 किसान