कोरोना के AP स्ट्रेन को लेकर जिले में हाई अलर्ट… NMDC अधिकारी-कर्मचारियों के विशाखापटनम, हैदराबाद आने-जाने पर लगी पाबंदी

94

कोरोना के AP स्ट्रेन को लेकर जिले में हाई अलर्ट… NMDC अधिकारी-कर्मचारियों के विशाखापटनम, हैदराबाद आने-जाने पर लगी पाबंदी

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। देश में कोरोना की दूसरी लहर दिन ब दिन खतरनाक होती जा रही है। छत्तीसगढ़ में भी कोरोना का कहर लगातार जारी है। इसी बीच आंध्र प्रदेश में मिले कोरोना के नए स्ट्रेन को लेकर दक्षिण बस्तर में प्रशासन अलर्ट हो गया है।

कोरोना के खतरनाक वैरिएंट को देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा जिले में कई पाबंदियों को लागू कर दिया गया है। जिसके तहत एनएमडीसी परियोजना बचेली व किरंदुल में कार्यरत अधिकारी/कर्मचारी एवं उनके परिवार के सदस्यों को विशाखापट्नम, हैदराबाद एवं आन्ध्रप्रदेश के शहरों में आने-जाने पर सख्ती से रोक लगाने के निर्देश कलेक्टर ने दिए हैं।

यह भी पढ़ें :  छत्तीसगढ़ में कोरोना से चौथी मौत, एम्स में भर्ती बिलासपुर के युवक ने तोड़ा दम

Read More:

 

प्रशासन द्वारा जारी निर्देश में कहा गया है कि किसी भी अधिकारी/कर्मचारी को अतिआवश्यक न होने पर अवकाश स्वीकृत न किया जावे। आन्ध्रप्रदेश से आने वाले सभी अधिकारी/कर्मचारी एवं ठकेदारों को अपनी परियोजना में प्रवेश न दिया जावे।

अत्यन्त आवश्यक होने पर एसडीएम बड़े बचेली की अनुमति पश्चात् कोविड टेस्ट कराकर अनिवार्यतः 10 दिवस का संस्थागत क्वारेंटाईन की शर्त पर ही जिले में प्रवेश दिया जा सकेगा। उक्त संबंध में किसी भी लापरवाही की स्थिति में आपकी व्यक्तिगत जिम्मेदारी तय की जावेगी।

सीमाओं में बढ़ी चौकसी

कोरोना वायरस के घातक आंध्रप्रदेश स्ट्रेन को जिले में प्रवेश से पहले ही रोकथाम के लिए जिले की सभी सीमाओं में चौकसी बढ़ा दी गई है। सरहदी इलाके की पंचायतों में हाई अलर्ट जारी किया गया है। जिले के गीदम जांच चौकी, बड़े सुरोखी, नकुलनार, कटेकल्याण और भूसारास जांच चौकी में सभी यात्री वाहनों, मालवाहक वाहनों को रोककर उनमें बैठे यात्रियों व वाहन चालकों की कोरोना जाँच की जा रही है।

यह भी पढ़ें :  बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद दंतेवाड़ा में हाई अलर्ट‚ संक्रमण से निपटने प्रशासन ने शुरू की कवायद

कलेक्टर दीपक सोनी ने कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए बाहर से आने वाले सभी यात्रियों की जांच के निर्देश दिए है। मालवाहक वाहनों के वाहन चालक और क्लीनर को भी कोरोना जांच के बाद ही जिले में प्रवेश दिया जा रहा है। वहीं यात्री बसों के सवारियों से कोरोना टेस्ट रिपोर्ट की माँग की जा रही है। रिपोर्ट नहीं होने की स्थिति में स्वास्थ्य जाँच दल द्वारा कोरोना टेस्ट किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें :  अच्छी खबर: कोरोना के जोखिम में होने लगा 'गुप्तदान', लॉक डाउन में फंसे 1000 दिहाड़ी मजदूर, मास्क व राशन मुहैया करा रही पालिका

Read More:

कोरोना वायरस के नये एपी स्ट्रेन के संक्रमण की संभावना को देखते हुये आन्ध्रप्रदेश से दन्तेवाड़ा जिले में वन मार्ग के माध्यम से प्रवेश करने वाले लोगों की निगरानी एवं आवागमन निषेध हेतु वनमण्डलाधिकारी, जिला दन्तेवाड़ा को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। बाहरी क्षेत्रों से जिले में प्रवेश करने वालों की अनिवार्यतः कोरोना टेस्ट करने एवं 10 दिवस के क्वारेंटाईन किए जाने के निर्देश दिए गए हैं।