दंतेवाड़ा में गारमेंट फैक्ट्री का शुभारंभ… CM भूपेश बोले- जिले की नई पहचान बनेगा ‘डेनेक्स’ ब्रांड, रोजगार से जुड़ेंगे युवा तो टूटेगा नक्सलवाद का तिलस्म!

77

दंतेवाड़ा में गारमेंट फैक्ट्री का शुभारंभ, CM भूपेश बोले- जिले की नई पहचान बनेगा ‘डेनेक्स’ ब्रांड, रोजगार से जुड़ेंगे युवा तो टूटेगा नक्सलवाद का तिलस्म!

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। अपने दो दिवसीय प्रवास पर दंतेवाड़ा पहुंचे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रविवार को गीदम ब्लॉक के हारम में बिहान महिला समूहों द्वारा संचालित ‘डेनेक्स’ नवा दंतेवाड़ा गारमेंट फैक्टरी का उदघाटन किया।

इस अवसर पर सीएम ने फैक्ट्री का अवलोकन किया और वहां काम कर रही महिलाओं और बालिकाओं से चर्चा कर उनकी हौसला अफजाई की। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब दंतेवाड़ा की नारी शक्ति द्वारा इस फैक्ट्री में तैयार गारमेंट ब्रांड ‘डेनेक्स’ का नाम देश-विदेश में चमकेगा। उन्होंने फैक्ट्री में काम कर रही बालिकाओं को अशीर्वाद भी दिया।

Read More:

 

सीएम बघेल ने कहा कि डेनेक्स फैक्ट्री में धुर नक्सल क्षेत्र की बहनों को कुशलता के साथ कपड़े तैयार करते देख आज सुखद आश्चर्य हो रहा है। हमारी बहनें प्रशिक्षण लेकर उच्च गुणवत्ता के जैकेट, शर्ट, कुर्ता सहित विभिन्न प्रकार के रेडीमेड गारमेंट बना रहीं हैं। इनके परिश्रम से जल्द ही दंतेवाड़ा की तस्वीर बदलेगी।

यह भी पढ़ें :  एक तकनीशियन पर 18 गांवों और 442 नलकूपों का बोझ

मुख्यमंत्री ने कहा कि धुर नक्सल प्रभावित क्षेत्र में इतनी बड़ी फैक्ट्री संचालित की जा रही है, जितनी बड़ी फैक्ट्री राजधानी रायपुर में भी नहीं है। आप सभी ने रोजगार के नए अवसर सृजित किये और यह बताया कि हमारी बहनें चाहे तो क्या नहीं कर सकती। इससे लोगों को रोजगार मिलेगा और जिले की पहचान भी बनेगी।

Read More:

सीएम ने कहा कि युवाओं को रोजगार से जोड़ने जिला प्रशासन द्वारा शुरू की गई यह पहल सराहनीय है। ऐसे प्रयासों से नक्सलवाद पर भी करारी चोट पहुंचेगी। युवाओं को अगर क्षेत्र में ही रोजगार का अवसर मिले तो वे नक्सलवाद की ओर रूख नहीं करेंगे। ऐसी कोशिशों से ही बस्तर में नक्सलवाद काफी हद तक काबू में आ रहा है।

सीएम को भेंट किया जैकेट

यह भी पढ़ें :  पण्डाल से कोरोना फैलने पर समिति उठाएगी मरीज का पूरा खर्च... मूर्ति स्थल को लेकर गाइडलाइन जारी, 4 CCTV लगाना अनिवार्य

बिहान की महिला सदस्यों ने सीएम को गारमेंट फैक्ट्री में कोसे से निर्मित जैकेट और टी-शर्ट भेंट किए। मुख्यमंत्री ने महिलाओं द्वारा तैयार किए जा रहे उत्पादों की गुणवत्ता की सराहना करते कहा कि आप लोगों ने मेरे लिए जैकेट भी बनाया है यह देखकर अत्यधिक प्रसन्नता हो रही है। जब आपके ये उत्पाद देश और विदेश में जाएंगे तो आपके मेहनत की प्रशंसा होगी साथ ही आपके जिले का प्रचार भी होगा।

बता दें कि जिले में गरीबी उन्मूलन के लिए जिला प्रशासन द्वारा स्थानीय महिलाओं को प्रशिक्षण देकर 1.92 करोड़ की लागत से टेक्सटाईल यूनिट शुरू की गई है। 5 एकड़ की भूमि पर लगाई गई इस अत्याधुनिक फैक्ट्री में कार्यरत महिलाओं को नियमित रूप से रोजगार उपलब्ध कराने के मद्देनजर यहां के उत्पादों की बिक्री के लिए ट्राईफेड, सीआरपीएफ, एनएमडीसी के साथ एमओयू किया गया है।

यह भी पढ़ें :  सड़क दुर्घटना में युवा कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष की मौत, जगदलपुर के पास हुआ हादसा

एक हजार परिवार को रोजगार

फिलहाल हारम की गारमेंट फैक्ट्री में दो पाली में 300 परिवारों को रोजगार प्रदान किया जाएगा। भविष्य में दंतेवाड़ा, बारसूर और बचेली में भी यूनिट स्थापित की जाएंगी। जिससे जिले के एक हजार परिवार को रोजगार मिलेगा। जो दंतेवाड़ा जिले में गरीबी उन्मूलन के लिए नींव का पत्थर साबित होगा।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…

खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…