इंद्रावती तीन करोड़ उधार में, सात पेट्रोल पंपों के बाद 3 और कतार में… जानिए, इस जिले में कितना खप रहा है डीजल और पेट्रोल

63

इंद्रावती तीन करोड़ उधार में, सात पेट्रोल पंपों के बाद 3 और कतार में… जानिए, इस जिले में कितना खप रहा है डीजल और पेट्रोल

पंकज दाउद @ बीजापुर। जिले में पेट्रोल और डीजल की मासिक खपत हो रही है और कुछ पंप तो खपत कम होने का रोना रहे हैं, तो इधर इंद्रावती पेट्रोल पंप तीन करोड़ रूपए की उधार से परेशान है। इस बीच एक दो माह में तीन और पंप खुल जाएंगे।

सूत्रों के मुताबिक इन दिनों नियमित रूप से टैंकर जिला मुख्यालय में नहीं आ रहे हैं। इसकी वजह लाॅक डाऊन को भी बताया जा रहा है। भिलाई डिपो से आने वाले टैंकर के ड्राइवरों की तबीयत खराब हो जाने या फिर रास्ते में खड़े हो जाने के कारण भी समस्या आ रही है लेकिन ये स्थिति एक दो दिन में ठीक हो जाएगी।

यह भी पढ़ें :  दंतेवाड़ा से राहत की खबर: संदिग्ध मरीज में नही पाया गया कोरोना वायरस, जांच रिपोर्ट आई निगेटिव

बताया गया है कि अभी नैमेड़ में एक, जिला मुख्यालय में तीन, आवापल्ली में एक और भोपालपटनम में एक पेट्रोल पंप चल रहे हैं। हर माह नैमेड़ एवं बीजापुर के लिए भिलाई से करीब चालीस टैंकर आते हैं। भोपालपटनम में सात टैंकर और आवापल्ली में एक टैंकर से सप्लाई होती है।

Read More:

 

भोपालपटनम में हिन्दुस्तान पेट्रोलियम से सप्लाई होती है बाकि पंप इंडियन आयल से पेट्रोलियम लेते हैं। एक अनुमान के मुताबिक पूरे जिले में माह में करीब दस लाख लीटर पेट्रोल व डीजल की खपत है।

यह भी पढ़ें :  एनीमिया से मुक्ति पाने 'मिशन हेल्दी बीजापुर' का आगाज, जिले में 50 फीसदी महिलाएं एनीमिक, 38 प्रतिशत लोग कुपोषित

खबर है कि पुलिस विभाग की ओर से संचालित इंद्रावती पंप इन दिनों परेशानी में है। इस पर करीब तीन करोड़ रूपए का उधार है। इस वजह से टैंकर मंगवाने में दिक्कत आ रही है।

बताया गया है कि आवापल्ली पंप में खपत कम है और इससे उन्हें परेशानी हो रही है। यहां केवल दो टैंकर ही आते हैं। इसकी खपत करना भी मुश्किल है क्योंकि ज्यादातर वाहनें डीजल और पेट्रोल जिला मुख्यालय से भरकर आती हैं।

की स्टोन ने भी अनुमति मांगी

यहां सड़कों के निर्माण में लगी कंपनी की स्टोन ने आवापल्ली में एक पेट्रोल पंप के लिए इजाजत मांगी है। ये अपने इस्तेमाल के लिए ही इसे खोलना चाह रही है। बताया गया है कि मद्देड़ एवं भैरमगढ़ के अलावा जिला मुख्यालय में एक-एक पेट्रोल पंप खोलने की कवायद चल रही है।

यह भी पढ़ें :  सामान खत्म हुए तो ग्रामीणों को मिली नगद राशि, धुर नक्सल प्रभावित गांव में फोर्स से लोगों की करीबी

Read More:

 

बताया गया है कि दिक्कत तब हो जाती है जब नैशनल हाईवे में चलने वाली वाहनें जिले के पेट्रोल पंपों से डीजल नहीं लेतीं। वे जगदलपुर या तेलंगाना से भरकर ही आती हैं। जगदलपुर में तो उन्हें उधार में भी पेट्रोल मिल जाता है।