हार के बाद पार्टी में घटा केदार और गागड़ा का कद ! दंतेवाड़ा व चित्रकोट सीट पर उपचुनाव हेतु शिवरतन और चंदेल बने प्रभारी

69
kedar-gagda

रायपुर/जगदलपुर @ खबर बस्तर। आगामी महीनों में बस्तर संभाग के अंतर्गत दंतेवाड़ा और चित्रकोट सीट पर होने वाले उपचुनाव के लिए भाजपा ने प्रभारियों की नियुक्ति कर दी है।

खास बात यह है कि रमन सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे बस्तर के कद्दावर नेता केदार कश्यप और महेश गागड़ा का कद घटाते हुए पार्टी ने दूसरे नेताओं को प्रभारी बनाया है।

kedar-gagda

यह भी पढ़ें: दंतेश्वरी मंदिर के छत से रिस रहा बारिश का पानी… टेम्पल कमेटी व पुरातत्व विभाग की अनदेखी से श्रद्धालु नाराज

बता दें कि रविवार को भाजपा द्वारा आगामी विधानसभा उपचुनाव, नगरीय निकाय चुनाव और त्रि-स्तरीय पंचायतों के चुनाव के लिए प्रभारियों की नियुक्ति की गई है। नगरीय निकाय चुनाव के लिए अमर अग्रवाल और त्रि-स्तरीय पंचायतों के चुनाव के लिए अजय चंद्राकर को प्रभारी बनाया गया है।

यह भी पढ़ें :  कलेक्टर काॅन्फ्रेंस में CM भूपेश बघेल की अफसरों को नसीहत, बोले- सादे कागज पर लिखे आवेदन पर भी करें प्रभावी कार्रवाई

पढ़िए: साप्ताहिक कॉलम…’पर्दे के पीछे’…आसमान से गिरे Facebook में अटके !

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष विक्रम उसेंडी द्वारा जारी प्रभारियों की सूची पर नजर डालें तो दंतेवाड़ा उपचुनाव के लिए शिवरतन शर्मा को प्रभारी नियुक्त किया गया है, जबकि पूर्व मंत्री महेश गागड़ा को सह प्रभारी बनाया गया है। वहीं नारायण चंदेल को चित्रकोट सीट का प्रभार सौंपा गया है। इस सीट पर पूर्व मंत्री केदार कश्यप को सह प्रभारी नियुक्त किया गया है।

BJP-office-raipur

बस्तर में दो सीटों पर होने वाले उप चुनाव को लेकर सियासी सरगर्मियां भी तेज हो गई है। इन सबके बीच उप चुनाव में केदार कश्यप व महेश गागड़ा को अधिक तरजीह नहीं मिलने से राजनीतिक प्रेक्षक विस चुनाव में दोनों को मिली हार से जोड़कर देख रहे हैं।

दरअसल, बीते साल हुए विधानसभा चुनाव में नारायणपुर से केदार कश्यप और बीजापुर से महेश गागड़ा अपनी सीट बचाने में नाकामयाब रहे थे। विस चुनाव में बस्तर से आने वाले दोनों मंत्रियों की करारी हार तो हुई ही पार्टी यहां की 12 में से 11 सीटें गंवा बैठी।

यह भी पढ़ें :  बस्तर में आज फिर मिला कोरोना पॉजिटिव मरीज, अब जिले में 2 एक्टिव केस

यह भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ के 13 बड़े हॉस्पिटल हुए ब्लैक लिस्ट, भूपेश सरकार की बड़ी कार्रवाई… देखिए अस्पतालों की पूरी लिस्ट

इतना ही नहीं लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के बावजूद बस्तर में भाजपा का अभेद किला ढह गया। स्व बलिराम कश्यप की परंपरागत बस्तर सीट करीब दो दश​क बाद भाजपा के हाथों से खिसक गई।

यह भी पढ़ें: आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर को दी सलाह- ‘पेट में दर्द हो तो पी लें महुआ दारू’

यह भी पढ़ें :  ट्रांसफर ब्रेकिंग: डिप्टी कलेक्टर, संयुक्त कलेक्टर समेत 50 से ज्यादा अफसरों का तबादला... जनपद पंचायतों के CEO भी बदले गए

इस चुनाव में पूर्व मंत्रियों केदार व गागड़ा के क्षेत्र से ही भाजपा उम्मीदवार पिछड़ गए थे, जो पार्टी की हार का कारण बना। चित्रकोट व दंतेवाड़ा उप चुनाव में इन दोनों नेताओं को कमान नहीं सौंपे जाने से कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। दोनों नेताओं के समर्थकों में भी मायूसी है। हालांकि, दोनों को सह प्रभारी बनाकर पार्टी ने बैलेंस बनाने का काम जरूर किया है।


ख़बर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए….