गला घोंटकर फिर दो युवकों की हत्या, शव को बाहर ले जाने की मनाही भी… कंगारू कोर्ट के बाद माओवादियों ने कमकानार गांव में फैलाई दहशत

48

गला घोंटकर फिर दो युवकों की हत्या, शव को बाहर ले जाने की मनाही भी… कंगारू कोर्ट के बाद माओवादियों ने कमकानार गांव में फैलाई दहशत

पंकज दाऊद @ बीजापुर। नक्सलियों ने बुधवार की रात करीब साढ़े 9 बजे गंगालूर थाने से कोई 10 किमी दूर कमकानार गांव के दो युवकों की गला घोंटकर बेदर्दी से हत्या कर दी। इसके बाद नक्सलियों ने थाने में रिपोर्ट ना लिखवाने और ऐसा करने पर गांव के लोगों को जान से मारने की धमकी भी दी।

Naxalites killed a relative of a police jawan

सूत्रों के मुताबिक चोकनपाल गांव में नक्सलियों ने जनअदालत लगाई थी। ये अदालत बुधवार को दिनभर चली। रात करीब साढ़े 9 बजे 10 से 12 नक्सली गांव आए। इनमें से पांच लोग वर्दी पहने और बंदूक लिए हुए थे बाकि नक्सली तीर-कमान लिए हुए थे।

यह भी पढ़ें :  कोरोना विस्फोट: प्रदेश में मिले 113 पॉजिटिव मरीज... यह जिला फिर बना हॉट स्पॉट, एक दिन में सामने आए 44 नए मामले... 84 मरीज हुए डिस्चार्ज, 2 लोगों की मौत भी हुई

Read More:

 

नक्सली छोटी सी किराने की दुकान चलाने वाले युवक किसान सुनील बोड्डू (23) पिता मंगल निवासी गायतापारा कमकानार को उसके घर से उठाकर ले गए। इसके बाद कमकानार के पटेलपारा निवासी किसान सन्नू उईका (35) पिता आयतू को गांव के मैदान में ले गए। जब उनके परिजन पीछे आने लगे तो नक्सलियों ने उन्हें भी जान से मारने की धमकी दी।

गुरूवार की सुबह एक किमी के दायरे में दोनों के शव पाए गए। बताया गया है कि उनकी हत्या रस्सी से गला घोटकर की गई। वारदात को अंजाम देने के बाद नक्सली अकवा के जंगल की ओर निकल गए। इधर नक्सलियों ने शव को गांव से बाहर नहीं ले जाने की चेतावनी भी दी है।

यह भी पढ़ें :  अपहृत इंजीनियर की पत्नी ने पति की रिहाई के लिए की अपील... बोलीं- 'रोजी-रोटी के लिए मेरे पति बस्तर आए हैं, मासूम बेटियों की खातिर छोड़ दें'

Read More:

 

बताया गया है कि गुरूवार की सुबह भी तीर कमान लेकर कुछ नक्सली आए थे और शवों को दफनाने दबाव बना रहे थे। पुलिस के पास उनके परिजन पहुंचे थे लेकिन शव नहीं होने से एफआईआर गुरूवार की शाम तक दर्ज नहीं हो पाई। इधर, पुलिस इस सूचना से इंकार नहीं कर रही है लेकिन अधिकारी इसकी पुष्टि भी नहीं कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  सुर्खियों में आई सड़क को ले JCC भी मैदान में ! नेता बोले, ‘‘ एक हफ्ते में हो कार्रवाई ’’

नक्सलियों ने ये लगाया आरोप

नक्सलियों ने सुनील और सन्नू पर आरोप लगाया कि वे किसी मानेश के लिए मुखबिरी का काम करते थे। दोनों ने 2018 से 2020 तक मुखबिरी का काम किया। भाकपा ( माओवादी) गंगालूर एरिया कमेटी की ओर से जारी पर्चे में कहा गया है कि मुखबिरी के कारण जन अदालत में इनकी हत्या की गई।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…


खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…