क्वारेंटाइन सेंटर में ‘भूत’ का साया..! प्रवासी मजदूरों ने रूकने से किया इंकार, बोले- रात को सुनाई देती है पायल की आवाज, दीवारों पर दिखते हैं पैरों के निशान !

90

क्वारेंटाइन सेंटर में भूत का साया..! प्रवासी मजदूरों ने रूकने से किया इंकार, बोले- रात को सुनाई देती है पायल की आवाज, दीवारों पर दिखते हैं पैरों के निशान !

रायपुर @ खबर बस्तर। छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच बलौदाबाजार जिले से एक चौंकाने वाली खबर आई है। यहां के एक क्वारेंटाइन सेंटर में भूत दिखने की चर्चा है। भूत के डर से मजदूरों ने क्वारेंटाइन सेंटर में रहने से इंकार कर दिया है।

जानकारी के मुताबिक, कसडोल के सेल गांव स्थित उच्चतर माध्यमिक विद्यालय को क्वारेंटाइन सेंटर बनाया गया है। यहां 22 प्रवासी श्रमिकों को क्वारेंटाइन किया गया था। इसी बीच क्वारेंटाइन सेंटर में भूत दिखने की अफवाह ने प्रशासन की मुश्किलें बढ़ा दी है।

Read More: 

 

यह भी पढ़ें :  CAF कैम्प में खूनी खेल, आपसी विवाद में साथी जवानों पर चलाई गोलियां... फायरिंग में 2 की मौत, एक घायल

दरअसल, क्वारेंटाइन सेंटर में रूके प्रवासी मजदूरों का कहना है कि वहां भूतों का साया है। रात का अंधेरा होते ही क्वारेंटाइन सेंटर में पायल की आवाज सुनाई देती है, लेकिन पूछने पर कोई जवाब नहीं देता। यह सिलसिला देर रात 11 बजे से 2 बजे तक चलता है।

 

मजदूर बताते हैं कि भूतों के डर से क्वारेंटाइन सेंटर में उनकी रात दहशत के बीच गुजरती है। कोई भी रात में सो नहीं पाता। सुबह जब उठकर देखते हैं तो दीवारों पर पैरों के निशान मिलते हैं। शनिवार और रविवार को भी ऐसा ही हुआ। इसके बाद मजदूरों ने यहां रूकने से इंकार कर दिया।

यह भी पढ़ें :  सड़क पर पड़ा मिला ग्रामीण का शव, हत्या की जताई जा रही आशंका !

Read More: 

 

सरपंच को सुनाई आपबीती

प्रवासी मजदूरों ने क्वारेंटाइन सेंटर में भूत होने की शिकायत गांव के सरपंच और अन्य लोगों से भी की। इसके बाद सोमवार को श्रमिकों को गांव के मिडिल स्कूल में शिफ्ट कर दिया गया है। हालांकि, गांव के एक पंच का कहना है कि मजदूरों की शिकायत के बाद स्कूल को चेक किया गया है, लेकिन इस तरह की कोई बात नहीं दिखाई दी है।

यह भी पढ़ें :  पशुधन विकास विभाग बीजापुर में निकली वैकेंसी, रिक्त पदों की पूर्ति हेतु आवेदन आमंत्रित

बैगा से कराएंगे झाड़-फूंक

पंच का कहना है कि क्वारेंटाइन सेंटर में रूके प्रवासी मजदूरों ने वहां भूत होने का अंदेशा जताया है। लेकिन स्कूल में ऐसी कुछ बात नहीं दिखी। उन्होंने कहा कि अब झाड़-फूंक कराएंगे, इसके लिए बैगा को बुला रहे हैं। मजदूरों को दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया गया है।

Read More: 

 

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…

ख़बर बस्तर के व्हॉट्सएप्प ग्रुप में जुड़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए….