8 लाख के इनामी नक्सली डिप्टी कमांडर ने किया सरेंडर, IED ब्लास्ट समेत इन वारदातों में था शामिल

26
Naxalite Deputy Commander of 8 lakh Prize surrendered

8 लाख के इनामी नक्सली डिप्टी कमांडर ने किया सरेंडर, IED ब्लास्ट समेत इन वारदातों में था शामिल

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। दक्षिण बस्तर की दंतेवाड़ा पुलिस को नक्सल आपरेशन में एक और बड़ी कामयाबी मिली है। गुरूवार को आठ लाख के इनामी नक्सली ने पुलिस अफसरों के समक्ष सरेंडर कर दिया। पुलिस के मुताबिक आत्मसमर्पित नक्सली आईईडी ब्लास्ट समेत हत्या की वारदातों में शामिल रहा है।

Naxalite Deputy Commander of 8 lakh Prize surrendered

जानकारी के मुताबिक, मंलागिर एरिया के प्लाटून नंबर 24 के डिप्टी कमांडर प्रदीप उर्फ़ भीमा कुंजाम ने दंतेवाड़ा एसपी डॉ अभिषेक पल्लव व सीआरपीएफ डीआईजी डीएम लाल के समक्ष आत्मसमर्पण किया है। सरेंडर करने वाले नक्सली पर छग शासन की नई इनामी पॉलिसी के तहत 8 लाख का इनाम घोषित है।

Read More:

 

यह भी पढ़ें :  छत्तीसगढ़: भारी बारिश को लेकर मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट, इन 14 जिलों में होगी झमाझम बारिश, आकाशीय बिजली गिरने की भी आशंका!

पुलिस अफसरों के अनुसार आत्मसमर्पित डिप्टी कमांडर भीमा कुंजाम साल 2008 में नक्सली संगठन में भर्ती होकर मंलागिर एलओएस सदस्य के रूप में सक्रिय रहा। उसे साल 2009 में कटेकल्याण एलओएस में ट्रांसफर किया गया। इसके बाद साल 2010 से 2013 तक वह नक्सली लीडर गणेश उईके के साथ कार्यरत रहा।

Read More:

 

साल 2014 व 2015 के दौरान माड़ डिवीज़न एवं बटालियन में सक्रिय रहा नक्सली भीमा कुंजाम रेडियो, वायरलेस सेट की रिपेयरिंग करने, बूबी ट्रैप, मोबाइल मैसेजिंग, इंटरसेप्शन डिकोडिंग करने की ट्रेनिंग ले चुका है। साल 2017 में इसे माओवादी संगठन के बड़े नेताओं द्वारा इसे मंलागिर एरिया के प्लाटून नंबर 24 का डिप्टी कमांडर बनाया गया। संगठन में रहने के दौरान वह अपने साथ एसएलआर रायफल रखता था।

यह भी पढ़ें :  कोरोना: एक ही परिवार के 6 सदस्यों समेत 29 मरीज मिले, जिले में फिर बढ़े एक्टिव केस

इन घटनाओं में रहा शामिल…

• 26 जून 2011 को किरंदुल थाना क्षेत्र के पटेलपारा किरंदुल मार्ग में पेट्रोलिंग पर निकली पुलिस पार्टी को आईईडी ब्लास्ट कर हत्या करने की घटना में शामिल था। इसमें एसआई नागवंशी सहित 3 आरक्षक सहित हो गए थे।

• साल 2012 में मडेन्दा नाला के पास नक्सलियों के साथ मिलकर एंटी लैंड माइन व्हीकल को उड़ाने की घटना में शामिल था।

• 13 मई 2012 को किरन्दुल थाना क्षेत्र अंतर्गत एनएमडीसी के पास पेट्रोलिंग पर निकली सीआईएसएफ वाहन को बम विस्फोट करने की घटना में शामिल था। जिसमें 5 सीआईएसफ के जवान एवं एक सिविलियन शहीद हो गए थे।

यह भी पढ़ें :  30 डिप्टी कलेक्टरों को मिली पहली पोस्टिंग, ट्रेनिंग के बाद अब संभालेंगे जिलों की कमान

• साल 2016 में बुर्कापाल जिला सुकमा में 25 सीआरपीएफ जवान की एंबुश लगाकर हत्या करने की घटना में शामिल था।

Read More:

 

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…

ख़बर बस्तर के व्हॉट्सएप्प ग्रुप में जुड़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए….