नक्सली वारदात: पत्नी को जान से मारने की धमकी दी और घर के सामने ही किसान की कर दी हत्या… दो दिन पहले ही वारंगल से लौटा था मृतक

79

नक्सली वारदात: पत्नी को जान से मारने की धमकी दी और घर के सामने ही किसान की कर दी हत्या… दो दिन पहले ही वारंगल से लौटा था मृतक

पंकज दाऊद @ बीजापुर। नक्सलियों ने यहां से 45 किमी दूर बासागुड़ा थाना क्षेत्र के फुतकेल गांव में सोमवार की रात साढ़े आठ से नौ बजे के बीच किसान दासर रमन्ना (36) की नलकूप के राॅड से सिर में वार कर हत्या कर दी।

जब उसकी पत्नी बचाव के लिए मकान से निकली तो नक्सलियों ने उसे बंदूक और चाकू दिखाकर जान से मारने की धमकी दी और मकान को बाहर से बंद कर दिया।

यह भी पढ़ें :  नारायणपुर: मुठभेड़ में दो जवान घायल, एक महिला नक्सली ढेर... सड़क सुरक्षा में लगे जवानों पर नक्सलियों के किया ब्लास्ट, फिर शुरू कर दी फायरिंग

Read More:  सुकमा में नक्सली सप्लायर गिरफ्तार, विस्फोटक समान समेत 25 हजार रुपये बरामद

सूत्रों के मुताबिक आवापल्ली-बासागुड़ा मार्ग पर तिम्मापुर से कोई 2 किमी दूर फुतकेल गांव में 20 से 25 हथियारबंद नक्सली सोमवार की रात करीब साढ़े आठ से नौ बजे के बीच आ धमके, तब दासर रमन्ना सोया हुआ था और उसका परिवार भी घर में ही था।

– इसी रॉड से ग्रामीण की हत्या की गई

 

तभी तीन हथियारबंद नक्सली दासर के घर में घुस आए और दासर रमन्ना को बाहर निकाला। जब उनकी पत्नी दासर रामकुमारी उसे बचाने घर से बाहर निकली, तो नक्सलियों ने उसे बंदूक और चाकू दिखाकर जान का भय दिखाया और घर के अंदर जाने कहा।

यह भी पढ़ें :  पुलिस के 5 जवान निकले कोरोना पॉजिटिव, सुकमा सिटी कोतवाली सील... जिले में आज फिर मिले 10 संक्रमित मरीज

Read More: कोरोना के डर से हॉस्पिटल से गायब हुए मरीज ! मेडिकल टीम ने शुरू किया डोर टू डोर सर्वे 

इसके बाद नक्सलियों ने आसपड़ोस में रहने वाले घर से बाहर आए उनके रिश्तेदारों को भी अंदर जाने कहा। इसके बाद नक्सलियों ने नलकूप के राॅड से उसके सिर पर वार कर हत्या कर दी। सुबह शव को पुलिस ने बरामद कर लिया। शव बासागुड़ा थाने लाया गया। यहां पीएम किया जा रहा है।

Read More: 

बताया गया है कि दासर रमन्ना को किसी से कोई लेना देना नहीं था और खेती किसानी में ही व्यस्त रहता था। उसकी दो बेटियां बीजापुर में पढ़ती हैं और दो बेटे उसूर में पढ़ते हैं। लाॅकडाउन के कारण वे घर ही आए हुए थे। उनकी एक बेटी की तबीयत खराब थी। उसके पेट में दर्द था। उसके इलाज के लिए दासर रमन्ना शनिवार को वारंगल गया था।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…
यह भी पढ़ें :  बुझ गया कांग्रेस का 'दीपक'... कोरोना ने छीन लिया बस्तर का भविष्य!