NIA का स्थायी वारंटी नक्सली एनकाउण्टर में ढेर, पहले पुलिस को चकमा दे चुका था

28

NIA का स्थायी वारंटी नक्सली एनकाउण्टर में ढेर, पहले पुलिस को चकमा दे चुका था

पंकज दाऊद @ बीजापुर। एनआईए का स्थायी वारंटी नक्सली एवं जनमिलिशिया कमाण्डर संतोष पोड़ियाम (25) गुरूवार की तड़के करीब चार बजे कुटरू थाने से चार किमी दूर मिंगाचल नदी के किनारे दरभा के जंगल में फोर्स के साथ हुए एनकाउण्टर में मारा गया।

मारा गया नक्सली दो माह पहले भैरमगढ़ वन भैंसा अभयारण्य के रेंजर रथराम पटेल एवं कुटरू के एएसआई कोरसा नागैया की हत्या में शामिल था। उस पर एक लाख रूपए का इनाम था।

इस घटना की पुष्टि एसपी कमलोचन कश्यप ने की है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक गुरूवार की तड़के करीब 4 बजे फोर्स के जवान मिंगाचल नदी के किनारे दरभा और तेलीपेंटा की ओर रवाना हुए थे। दरभा के जंगल में नक्सलियों ने जवानों पर फायरिंग की और भागने लगे।

यह भी पढ़ें :  TI पर लगा BMO से दुर्व्यवहार का आरोप, डाॅक्टर्स ने काम बंद करने की दी चेतावनी

पुलिस ने भी सीमित जवाबी फायरिंग की। कुछ देर बाद मौके की सर्चिंग में एक नक्सली का शव मिला। इसके आसपास एक भरमार, दवाएं, नक्सली साहित्य, पिट्ठू एवं दैनिक उपयोग के सामान पाए गए। मारे गए नक्सली की शिनाख्त जनमिलिशिया कमाण्डर संतोष पोड़ियाम निवासी दरभा के तौर पर की गई। उसे कमर में गोली लगी है।

बता दें कि दो माह पहले जांगला थाना क्षेत्र के कोण्ड्रोजी में रेंजर रथराम पटेल की हत्या की गई थी। उसमें संतोष शामिल था। हत्या उस समय की गई जब रेंजर पटेल मजदूरी भुगतान कर रहे थे। वहीं कुटरू से अपने घर बाइक के जाते एएसआई कोरसा नागैया का अपहरण कर उनकी मंगापेंटा के पास हत्या कर दी गई। इसमें भी संतोष शामिल था।

यह भी पढ़ें :  चुनाव बहिष्कार का नारा बुलंद करने वाले दो आत्मसमर्पित नक्सलियों ने किया मतदान... 'गनतंत्र' को छोड़कर 'गणतंत्र' पर जताई आस्था

संतोष ने अपने गांव में 2018 में लूटपाट की थी। उस पर विधि विरूद्ध क्रियाकलाप के तहत कुटरू थाने में मामला दर्ज था। इसके बाद एनआईए ने उसके खिलाफ स्थायी वारंट जारी किया था। बताया गया है कि वह एलओएस कमाण्डर रमेश, सरकार अध्यक्ष सुकराम कवासी एवं उपाध्यक्ष कोसा माड़वी के अधीन काम करता था। इस क्षेत्र में ये तीनों सक्रिय हैं।

बताया गया है कि करीब दो माह पहले दरभा और पेटा के बीच जंगल में खाना बना रहे नक्सलियों को पुलिस ने घेरा था और दो माओवादी पकड़े भी गए थे लेकिन संतोष वहां से बचकर भाग जाने में कामयाब था।

यह भी पढ़ें :  त्यौहारों से पहले बड़ी राहत: दुकान खोलने व बंद करने के समय की पाबंदी हटी... अब इन शर्तो के साथ खुलेंगे दुकान

दो बच्चों का पिता

संतोष पोड़ियाम दो बच्चों का पिता था। नक्सलियों ने उसे गांव का कामकाज देखने भी कहा था। उसके मारे जाने की सूचना उसके घर वालों को दी गई है। गुरूवार को जिला हाॅस्पिटल में शव का पोस्ट मार्टम किया गया।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…


खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…