PPE किट पहनकर बेटी ने पिता को दी मुखाग्नि, VIDEO कॉल के जरिये परिजनों को कराया अंतिम दर्शन

52

PPE किट पहनकर बेटी ने पिता को दी मुखाग्नि, VIDEO कॉल के जरिये परिजनों को कराया अंतिम दर्शन

जगदलपुर @ खबर बस्तर। कोरोना महामारी के संकट से आज पूरी दुनिया जूझ रही है। कोरोना काल में छत्तीसगढ़ के जगदलपुर में एक ऐसी तस्वीर सामने आई जो आपको झकझोर सकती है। दरअसल, यहां एक बेटी ने अपने पिता के पार्थिव देह को मुखाग्नि दी है।

 

ओडिशा निवासी कोरोना संक्रमित पिता का अंतिम संस्कार बेटी ने पीपीई किट पहनकर किया। इस दौरान बेटी ने वीडियो के जरिये परिवार वालों को पिता का अंतिम दर्शन कराया। ये दृश्य देखकर लोगों की आंखें भर आईं।

जानकारी के मुताबिक, ओडिशा के कोरापुट जिले के कुसमी के रहने वाले 64 साल के एक बुजुर्ग की डिमरापाल मेडिकल कॉलेज में मौत हो गई थी। कोरोना पॉजिटिव बुजुर्ग को मेकाज में भर्ती कराया गया था, जहां इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया।

यह भी पढ़ें :  छत्तीसगढ़: दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों की होगी 'घर वापसी'... भूपेश सरकार ने इन 4 ट्रेनों को किया कन्फर्म

Read More: बस्तर में युवती के साथ गैंगरेप, पीड़िता ने कर ली आत्महत्या… पुलिस ने कब्र खोदकर निकाला शव, 5 आरोपी गिरफ्तार

बुजुर्ग की मौत के बाद परिजनों ने मृतक के शव को अपने गृहग्राम ले जाने के लिए ओडिशा के स्थानीय प्रशासन से गुहार लगाई लेकिन प्रशासन ने कोई सुध नहीं ली। आखिरकार, मृतक के परिजनों ने बस्तर जिला प्रशासन से संपर्क साधा और प्रशासन की पहल पर बुजुर्ग का जगदलपुर में अंतिम संस्कार किया गया।

बेटी ने दी मुखाग्नि

जगदलपुर स्थित मुक्तिधाम में मृतक की बेटी ने पीपीई किट पहनकर अपने पिता को मुखाग्नि दी। बुजुर्ग के अंतिम संस्कार में घर के कई सदस्य शामिल नहीं हो पाए। लिहाजा बेटी ने विडियो कॉल कर परिवार वालों को पिता का अंतिम दर्शन भी कराया।

यह भी पढ़ें :  NHM के 205 अधिकारी-कर्मचारियों ने दिया सामूहिक इस्तीफा, प्रशासन की कार्रवाई के विरोध में लिया फैसला

बता दें कि ओडिशा के कुसमी निवासी बुजुर्ग की तबीयत अचानक खराब होने पर उनकी पत्नी और बेटी ने उन्हें जगदलपुर के एक निजी हॉस्पिटल में भर्ती कराया था। जहां उनके स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं होता देख मेकाज में रेफर कर दिया गया। मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान शनिवार को उनकी मौत हो गई।

Read More: बस्तर की गोंडी भाषा को मिली अंतरराष्ट्रीय पहचान… Google ने तैयार किया यूनिकोड फॉन्ट, अब गोंडी में टाइप भी कर सकेंगे

कोरोना संक्रमित बुजुर्ग की मौत के बाद परिजनों ने शव को अपने गृहग्राम ले जाने के लिए बस्तर कलेक्टर रजत बंसल से मांग की। कलेक्टर ने ओड़िशा कोरापुट के स्थानीय प्रशासन से संपर्क किया लेकिन उन्होंने शव लेने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई।

यह भी पढ़ें :  IED विस्फोट में CRPF के दो जवान घायल, रायपुर रेफर

Read More:

 

कलेक्टर रजत बंसल की पहल पर बुजुर्ग का जगदलपुर के मुक्तिधाम में ही अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान परिवार के सदस्यों की गैर मौजूदगी के चलते मृतक के बेटी ने पीपीई किट पहनकर अपने पिता को मुखाग्नि दी। बता दें कि इससे पहले भी ओडिशा के कोरोना संक्रमित मरीज की मौत के बाद शहर में ही शव का अंतिम संस्कार किया गया था।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…


खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…