पुष्पवर्षा के बीच निकली ‘राम वनगमन पथ’ पर्यटन रथयात्रा, स्वागत में श्रद्धालुओं ने बिछाई पलकें

48

पुष्पवर्षा के बीच निकली ‘राम वनगमन पथ’ पर्यटन रथयात्रा, स्वागत में श्रद्धालुओं ने बिछाई पलकें 

के. शंकर @ सुकमा। त्रेतायुग में वनवास के दौरान भगवान राम के पग पड़ने से पवित्र हो चुकी माता चिटमिट्टीन की यह भूमि सोमवार को फिर से राममय हो गई, जब हजारों की संख्या में बाइक सवारों ने राम नाम के नारे के साथ रैली निकाली।

रामाराम गांव से प्रभु श्रीराम वनगमन पर्यटन रथ के साथ निकली बाइक रैली का जगह-जगह खड़े श्रद्धालुओं ने पुष्पवर्षा के साथ स्वागत किया। रथयात्रा मार्ग में भी फूल बिछाये गए थे। जगह जगह श्रद्धालु रथ के स्वागत में पलकें बिछाए खड़े थे।

जिस तरह भगवान राम के दर्शन को शबरी की आंखें व्याकुल थी, वही आतुरता रथयात्रा और बाइक रैली के स्वागत के लिए बच्चे, बूढ़े और जवानों में भी नजर आया। रथ यात्रा के स्वागत के साथ ही सुकमा, छिंदगढ़, कुकानार और तोंगपाल में रामायण पाठ व धार्मिक भजनों का आयोजन भी किया गया, जहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए।

यह भी पढ़ें :  छत्तीसगढ़ के इस जिले में 243 पदों के लिए निकली वैकेंसी... 21 मार्च से ऑनलाइन आवेदन शुरू, यहां देखिए पूरी जानकारी

रथयात्रा माता चिटमिट्टीन की पवित्र भूमि रामाराम से प्रारंभ हुई और लगभग 65 किलोमीटर की यात्रा कर बस्तर जिले की सीमा पर स्थित टाहकवाड़ा पहुंची, जहां सुकमा कलेक्टर विनीत नन्दनवार ने बस्तर कलेक्टर रजत बंसल को यात्रा को आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी दी गई।

इससे पहले सोमवार की सुबह रामाराम में कलेक्टर विनीत नन्दनवार ने रथ यात्रा को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया। वे रथ यात्रा में भी शामिल हुए। इस दौरान सुकमा नगर पालिका अध्यक्ष जगन्नाथ साहू सहित बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि व श्रद्धालु शामिल हुए।

यह भी पढ़ें :  पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाते ग्रामीणों ने नेशनल हाईवे पर किया चक्काजाम, TI पर कार्रवाई की कर रहे मांग... देखिए VIDEO

 

बता दें कि सुकमा जिला मुख्यालय से दक्षिण में कोंटा मार्ग पर लगभग 10 किमी की दूरी पर रामाराम ग्राम स्थित है। यहां की आराध्य देवी चिटमिट्टीन हैं। राम वन गमन मार्ग के शोध से भगवान राम के यहां आगमन और भू-देवी के आराधना की जानकारी मिलती है।

Read More: 

छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार द्वारा भगवान राम से बहुत ही गहरा संबंध रखने वाले छत्तीसगढ़ प्रदेश में राम वन पथ गमन परिपथ का विकास किया जा रहा है। जिससे श्रद्धालुओं को आध्यात्मिक तथा क्षेत्र की प्राकृतिक सुंदरता का अवलोकन करने का अवसर प्राप्त हो सके। इस मार्ग में फलदार और औषधीय पौधों के रोपण का कार्य भी किया जा रहा है।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…
यह भी पढ़ें :  चुनाव ड्यूटी में लापरवाही पड़ी भारी, कलेक्टर ने 5 कर्मचारियों को किया सस्पेंड


खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…