24 घंटे बाद भी SI मुरली नक्सलियों के कब्जे में‚ नक्सल विरोधी फ़ारूख अली ने माओवादियों से की अपील‚ कहा– परिवार व मानवता की खातिर रिहा कर दें

43

24 घंटे बाद भी SI मुरली नक्सलियों के कब्जे में‚ नक्सल विरोधी फ़ारूख अली ने माओवादियों से की अपील‚ कहा– परिवार व मानवता की खातिर रिहा कर दें

के. शंकर सुकमा। बीजापुर जिले के गंगालूर इलाके से नक्सलियों द्वारा अगवा किए गए सब इंस्पेक्टर मुरली ताती की 24 घंटे बाद भी रिहाई नहीं हो सकी है। इसी बीच समाज सेवी व नक्सल विरोधी फ़ारूख अली ने अपहृत जवान की सकुशल रिहाई को लेकर माओवादियों से अपील की है।

यह भी पढ़ें :  दो माओवादी युवतियां हलाक, मौत का सामान छोड़ भागे नक्सली... DRG के स्पेशल ग्रुप ने जंगल में घेरा लाल लड़ाकों को, बड़ी वारदात की फिराक में थे ये

फ़ारूख ने नक्सलियों से अपील करते कहा कि जिस जवान का आपने अपहरण किया है‚ उसका मानसिक संतुलन ठीक नहीं है। नक्सली हमेशा कहते रहे हैं कि वे जनता की लड़ाई लड़ रहे हैं। ऐसे में अगर मानसिक रूप से परेशान जवान की नक्सली हत्या करते हैं तो इससे उनके युद्ध पर प्रभाव पड़ेगा।

Read More:

अली ने यह भी कहा कि उनके और नक्सलियों के विचारों में मतभेद रहा है। नक्सली विचारधारा के विरोधी होने के बावजूद वे माओवादियों से जनता की तरफ से अपील करते हैं कि वे अगवा जवान को उनके परिवार व मानवता की खातिर रिहा कर दें।

यह भी पढ़ें :  कांग्रेस चुनाव समिति तय करेगी कर्मा परिवार के भाग्य का फैसला... 29 अगस्त को राजीव भवन में होगी पार्टी की बैठक, दंतेवाड़ा प्रत्याशी के नाम का होगा ऐलान !

video

घोर नक्सल विरोधी माने जाने वाले फ़ारूख अली ने कहा कि नक्सली अगर जवान को निःशर्त रिहा कर देते हैं तो उनका ये कदम साबित करेगा कि माओवादी संगठन वाकई में आदिवासियों का हितैषी है। क्योंकि अपहृत जवान क्षेत्रीय आदिवासी युवक है।

Read More: